दिखदेयाँ-दिखदेयाँ मेरिये माए बैह्न्द खड़ैत्तर होई*”
दिक्ख बचारा आट्टे कन्ने घुण जांदा दरड़ोई।

भदराँ करियै रोड्डे-भोड्डे खिड़-खिड़ चारैं हस्से,
बिच किरया दे भत्ते कन्ने दारू बी बरतोई।

खुल्ले-खिल्ले खेत्तर दिक्खी बाँदर खिड़खिड़ हस्सै,
जय बजरंगी लोक्की बोल्लण कुद्दादा फणसोई।

बुड़काँ मारी फुकरे बणयो छोह्रू बिगड़े-तिगड़े,
छैल़ प्रीह्या दित्ता बब्बें जाह्लू कस्सी डोई।

चिट्ट-चरेल़ी नार-नवेली रंग-बरंगे टल्ले,
भाऊ-ताऊ दिक्ख मटाक्के पौंदे कैंह् बकल़ोई।

इक्क बचारा रिस्त्याँ खात्तर दौड़ै दौड़ लगाई,
दूआॅ मुट्ठी बट्टी न्हट्ठै भिरुआँ जान तणोई।

औंदण अपणी रक्खी ढक्की मुस्क न आई बाहर,
टुण्ड डुबाई फंग न्ह्ठाई कुसदी दौण कसोई।

वीरबल़े दी खिचड़ी चाढ़ी मीस्सण पीस्सण पाया,
भत्त बगान्ने मित्तरचारा खुल्ली छण्ड दयोई।

दुनिया दा दस्तूर कपत्ता सिद्दा खांदा गोत्ते,
खाई भूत्तण बेह्ल्ले बैट्ठी फाक्के कट्टै कोई।

मत्त मलीन ‘नवीन’ नमाणी जाह्लू-जाह्लू होई,
अड़यो ठौकर साँह्ब्भै तिसजो होर न रस्ता कोई।

नवीन शर्मा
गुलेर