बिशम्बर नवीन

अपणी डफल़ी लोक बजांदे ,
कुण दिंदा ऐ स्हौत कुसी जो ?

थ्होंदी नीं धरतू च मित्तरो ,
मुंह्-मंग्गी तां मौत कुसी जो ?

दुनियांदारी खेल तमास्सा ,
नीं औंदी ऐ रास कुसी जो?

भोल़ा-भकल़ा रुल़ै वचारा ,
इज्जत मिलदी खास कुसी जो?

भुक्खे-भाणे पैर पतांह्णे ,
मोटर – कारां ज्हाज कुसी जो ?

कुड़ियां जो तां मते पुआड़े ,
मारा दा ऐ दाज कुसी जो ?

लोक सिआणे कथा सुणांदे ,
किंह्यां थ्होया ताज कुसी जो ?

देणां पौंदे हक्क बरोबर ,
जे करना ऐं राज कुसी जो ?

वगत बड़ा बलवान गलांदे ,
लैण नीं दै सुआस कुसी जो ?

म्हेशा वगत “नवीन” करांदा ,
फेल कुसी जो पास कुसी जो ??

बिशम्बर नवीन ०९४१८८४६७७३
काव्य-कुंज जसूर-१७६२०१,
जिला कांगड़ा (हिमाचल)l