पहाडी कवत्ता….
शीर्षक:-आचारे री कहाणी
…….
सुणो लोकों तुहांजो सुणादा ,
आचारे री कहाणी,
ऐ है नोई कन्ने, थोडी पराणी..
पैहले अस्साँ जो शैल लगदा था,
अम्बे दा अचार, निम्बुए दा अचार…
पर हुण नेतेआं जो लगदा ऐ खराब..
उन्हा दी ताँ इको पसंद,
जिसकी खान्दे सै हर बार …
ते तिस्स अचारे दा ना रखदे..
भ्रष्टाचार… भ्रष्टाचार…
ऐ मिलदा पूरे देश बिच,
कुथी घाट कुथी बाहद,
नेता गलान्दे ,
जिन्हा ऐ खाई लेया अचार…
सेह तोपदे इसकी बार बार…
नेतेआं बिच भी कुन्नी खादा ज्यादा कुन्नी खादा घाट..
लालू एन्ड़ फैमली है इस अचारे दी शोकिन..
सेह ताँ तोपदे इस आचारे जो बनाणए आली मशीन,
नेता क्न्ने आजकलै दे अफ़सर गलान्दे,
काम कराने ताँ लयोगो ए अचार…
जिसकी गलान्दे पाईयों ऐ
भ्रष्टाचार … भ्रष्टाचार…
सुणो सुन्दन गलान्दा इक गल्ल तुहांजो..
तुसां मत खान्दे ऐ अचार,
कैंकी ऐ है गलत क्न्ने खराब अचार..
ऐ है भ्रष्टाचार भ्रष्टाचार …
,……………………………
राहुल सुन्दन
चुवाडी