इक पहाडी ग़ज़ल
———————-
पता नी काह्लु नसीवां च टैम खरा औंदा ।
इह्यां कटोई म्हारी जिह्यां स्याल़े दा ध्याडा घरोंदा ।।

सुण्या था पर पैह्ली वरी दिख्या मितरा ।
घराटें कणका सोगी घुण प्योंदा ।।

मती बरी सोचया भई मिलणा कने पुछणा ।
पर पैहली बरी दिख्या दिल अंदर अंदर रोंदा ।।

सैह होर हुंदे जेहडे कैसी दी परूआह नी करदे ।
पर असां दिख्या दिल गल्ला गल्ला पर घटोंदा ।।

तीर कैत पाणे हुज्जां ही बतेरियां हन मितरो ।
मडा दिल भिरी पता नी कजो रैहंदा संगरोंदा ।।

जिह्यां भी कटोंदी कट कने चल “दीक्षिता”।
हसाब सारेयां जो उप्पर देणा है पोंदा ।।

सुदेश दीक्षित बैजनाथ