ग़ज़ल

जे मिलै सैह खाणा पौंदा,
इह्यां ही दिल पतियाणा पौंदा।

बाजी तेले बल़ै न दीया,
तेल तां भाऊ पाणा पोंदा।

जेहड़ा पल्लैं टैम कट्टी लै,
इक दिन उप्पर जाणा पौंदा।

जितणा मर्जी मुहुँए धोयी लै,
शीशा आखिर चमकाणा पौंदा।

मूर्खां जो क्या समझाणा,
अपणा ह्रास कराणा पौंदा।

गैर नी बणदा कदि भी अपणा,
अपणा ही गलैं लगाणा पौंदा।

संस्कृतिया दे जेह्ड़े पुजारी,
तिन्न- गाँह सीस झुकाणा पौंदा।

साबुत राशन कोई नी खांदा,
जाई घराटें भ्याणा पौंदा।

बेथौई प्रीत कदि नी पाणी,
अपणा नास पुटाणा पौंदा।

चलदे फिरदे रिश्ते नी करने,
पैहलैं वयाह सधाणा पौंदा।

मंदरा बिच भगवान बिराजै,
विस्वास करी ने जाणा पौंदा।

पूजा पाठैं कुछ नी मिलदा,
मन तिस सौगी लाणा पौंदा।

निराश सब किछ तिन्नी करना,
सब तिसदें लेखैं लाणा पौंदा।

सुरेश भारद्वाज निराश😡
धौलाधार कलोनी लोअर बड़ोल
पी ओ दाड़ी, धर्मशाला हि प्र.
176057
मो० 9418823654