“दिले दीया मैहरमा” गीत

बिशम्बर नवीन

दिले दीया मैहरमा तू आई जा छुट्टिया ।
तेरे बाह्झी मरा दी मैं खट्टा पेइयो टुट्टिया।।

याद मेरी तुसां जो अज्ज किंह्यां भुल्ली गेई,
सौकणीं वगैर किंह्यां निगाह् तेरी डुल्ली गेई।
गूट्ठिया जो दिक्खी करी कजो दिन कट्टदा ,
मने दीया गल्ला जो गलाई कैंह्नीं सट्टदा ।
साह्बे जो गलाई करी मौज़ां आई लुट्टिया ।
दिले दीया मैहरमा तू आई जा छुट्टिया ।

तेरे बाह्झी इंह्यां जिंह्यां जले बाह्झी जलकी,
काल्ही -काल्ही फुक्क होऐ पेई जाए तल्हकी।
होरनां दे नौकर तां म्हीने-म्हीने घर औंदे,
तुसां तां साले पिच्छैं इक्क फेरा बी न पांदे ।
तेरे बाह्झी सुन्नी पेइयो अज्ज मेरी कुट्टिया ।
दिले दीया मैहरमा तू आई जा छुट्टिया ।।

सच तां गलांदे लोक्की देस्से दा तू सूरमा ,
वैरिए दा चुत्थी – चुत्थी करी दित्ता चूरमा ।
हुण कैंह्नीं सोचदा वजोग लग्गा जोगणा ,
मेरिया जुआनियां जो कजो लग्गा डोबणा ।
नज़रां दी पींघ पाइयो पींघा आई झूट्टिया ।
दिले दीया मैहरमा तू आई जा छुट्टिया ।।

दिनैं मिंजो धुप्प जाल़ै रात्ती जो सैह् चानणीं ,
सुक्की के सुनैडू होई चकोऐ बी न छानणीं ।
फुक्क मेरी तड़फै भई मुकी जाए जिन्दड़ी,
लम्मे-लम्मे साह् भरां भारी लग्गै बिन्दली ।
तिज्जो नीं ऐं तौ$तां तू छौंआं मारी सुट्टिया।
दिले दीया मैहरमा तू आई जा छुट्टिया ।।

दिले दीया मैहरमा तू आई जा छुट्टिया ।
तेरे बाह्झी मरा दी मैं खट्टा पेइयो टुट्टिया।।

बिशम्बर नवीन
09418846773
काव्य-कुंज जसूर-176201,
जिला कांगड़ा ,हिमाचल l