पल कोई भी हो हर पल आपका
ख़याल रहता है…!

तुम ज़िंदगी में क्यों न हो
दिल को ये मलाल रहता है…!

तुमसे क्या रिश्ता है न जाने क्यों
तुम्हारा इतना ख़याल रहता है….!!

“””””””” “”””””” “””””””

हँसता हँसाता दर्द छुपाता है कोई,
मुस्कुराता हुवा याद आता है कोई’
अपना बनाते बनाते भुल जाता है कोई..!!!

“”””””””” “””””””””” “”””””””

दर्द की कमी कहाँ है मेरे दोस्त
बस…इतना मंहगा है के कोई
ख़रीददार नहीं मिलता…!!!

“””””””””””. “”””””. “””””””

चलते गये मोहब्बत की राह पर
ख़बर न थी अनजाम की..
पढ़ते गये किताबें पर कुछ याद न रहा,
ख़बर न थी इम्तिहान की…..!!

आँखें बन्द कर करते रहे तसबर हमेशा
मगर ख़बर न थी इल्ज़ाम की…!!!

“”””””””” “””””””” “”””””””””

हर अश्क़ ये पैग़ाम देता है’
हर बार आपका नाम लेता है’
क्या दर्द दे गये हो तुम’
जो हर बार पहचान लेता है…..!!

तुममें दिल बसता है
हम जहाँ भी रहे कोई फ़र्क़ नहीं पड़ता है,
ऐ दोस्त ………
भुल न जाना ‘उत्तम ‘ हर पल याद
करता है..!!

उत्तम सूर्यावशी
किहार चंबा (िह.पं)
मो. न. 8629082280