ग़ज़ल/सुरेश भारद्वाज निराश

* ग़ज़ल

पल्लैं तेरें पौंदा नी
मोआ सिरे झसदा रैह।

मंजोल़ु पेया लमकी तेरा
कदि तां दौणी कसदा रैह।

ज़वरा तेरा बड़ा कसरी
बैदे जो नव्जा दसदा रैह।

खरी कमाई करना सिक्ख
लोकां दियां दिलां बसदा रैह।

जितणा अंदर तू उतणा बाहर
मत डूंगा इ डूंगा धसदा रैह।

पाप कमाये तू कजो मूर्खा
बुरे कम्मा ते नसदा रैह।

दुखियां दिक्खी दु:ख मना
ईह्यां मत तू हसदा रैह।

मुफते दे मत टिक्कड़ फाड़ें
जूठे भाण्डे तां घसदा रैह।

लत फसाणा छड्डि दे मित्रा
मत बगानी फाहिया फसदा रैह।

खरे बुरे दा साथ नभाणा
दुनिया दारी च रसदा रैह।

हुण तां माह्णु बण निराश
मत सप्प बणी ने डसदा रैह।

सुरेश भारद्वाज निराश
धौलाधार कलोनी लोअर बड़ोल
पी.ओ. दाड़ी, धर्मशाला हिप्र
176057
मो० 9418823654

2 comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *