कविता/नवीन हलदुणवी

“जाच्ची खुआई बैट्ठे”

बिशम्बर नवीन

असूलां प चलना मिगी दुनियां नीं दिंदी,
भई माड़ा-भला के मीं आक्खां तिन्हां की ।

सैह् वगते जो कट्टा दे बेच्ची ज़मीरा,
पची जान सणैं फंगैं कुक्कड़ तिन्हां की ।

नीं अप्पू कमांदे नीं करना सैह् दिंदे,
कैंह् पुट्ठी बमारी एह् लगियो तिन्हां की ।

सच्ची तां गद्दार नच्चादे – कुद्दादे ,
दस्सी सकै नीं कोई छित्तर तिन्हां की ।

चसका जिन्हां की भई रिसबत दा लग्गा ,
रता पीड़ देस्से दी बी नैंइ तिन्हां की ।

कनैं जित्थू बी दिक्खा झूठे दा वास्सा,
जां माड़े जो पौंदे न धप्फे दिनां की ।

“नवीन” करी गेन खाई पत्तल़ा छींड्डा ,
जाच्ची खुआई बैट्ठे सब्बो तिन्हां की ।।

बिशम्बर नवीन
09418846773
काव्य-कुंज जसूर-176201,
जिला कांगड़ा , हिमाचल l

2 comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *