बद्दल़
शीर्षक (बद्दल़)
बद्दल़ आए, बद्दल़ आए, छैल़ छल्लपे बद्दल़ आए।
मौनसूना आले़ बद्दल़ आए, बरखा अप्पणी सौगी लियाए।
एह हन काले़ काले़ बद्दल़, आंधी बवंडर सौगी औंदे।
धरत पल्लट करी एह बरदे बद्दल़, सब्बोई इन्हां जो दिक्खी न्नैं डरदे।
इक होंदे चिट्टे चिट्टे बद्दल़, मन परचांदे सैह् रैंहदे बद्दल़ ।
बरखा बगैर सैह् औंदे जांदे, लारे लप्पे हन सैह् लांदे बद्दल़।
इक्क भेडां पाई न्नैं औंदे बद्दल़, डेरा लाई न्नैं सैह् बौंदे बद्दल़।
बद्दला़ं ताईं हन सब्बोई मिन्नतां करदे कुत्थी जाइनैं शिवां जो पूज्जण।
पर बद्दल़ तां हन बद्दल़ होंदे, अप्पणी मर्जीया एह औंदे जांदे ।
लक्ख मिन्नतां तुस्स करि रेया जी, नीं गल्लाई एह मन्नदे बद्दल़ ।
दिक्खी बद्दला़ं निआणें दौड़े, ओह दिक्खा ओह दिक्खा हण आए बद्दल़।
बच्चेआं रे एह पिआरे बद्दल़, इन्हां रे अंग संग रैंहदे बद्दल़।
बद्दला़ं न्नैं ऐ जिंदड़ी जुड़िओ साह्ड़ी, बड़े पिआरे हन लग्गदे बद्दल़।
परिमल बद्दला़ं न्नैं जुड़ेआ जीवन, बड़े पिआरे न्नैं न्यारे लग्गदे बद्दल़।।
नंदकिशोर परिमल, गांव व डा. गुलेर
तह. देहरा, जिला. कांगड़ा (हि_प्र)
पिन. 176033, संपर्क. 9418187358