ग़ज़ल

दुयाँ दे ताल्ले पर नचणा छड़ी देह् I
मदाने आई के नठणा छड़ी देह् II

भला जीणा बणांदे म्हारा जेह्ड़े ,
हरे बूट्याँ तिन्हाँ बढ़णा छड़ी देह् I

कमाई लै खरा दिन मुकदे जाऽ दे ,
नीं सौगीं जाणा किछ ठगणा छड़ी देह् I

बणी जा प्हाड़ पक्का, मिट्टी मत बण ,
कि खाई चोट इक टुटणा छड़ी देह् I

शराबे दिक्खी मत टपका तू लाल़ाँ ,
मिलै मुफ्त बी तां छकणा छड़ी देह् I

करी के दान टाह्ई मंगदा कैंह् ,
मुया थुक्की करी चटणा छड़ी देह् I

पता जिस रस्तें झिल कंडे भरेयो ,
निकलणा नीं कदी, फसणा छड़ी देह् I

फलेयो बूटे झुकदे ऐ खबर सब ,
अपण तू हर कुथी झुकणा छड़ी देह् I

जमाने दी कोई गल जे करै नां ,
कताबां रद्दी सैह्, लिखणा छड़ी देह् I

कल़ह हर बेला दी हुंदी बुरी ऐ ,
जपी लै नाँ कोई बकणा छड़ी देह् I

खरा नीं म्हौल तां जांदे रुल़ी कुल़ ,
तू भुच्चड़ बासे बिच बसणा छड़ी देह् I

निकल मत तू हदां ते होई बाहर ,
भलेया, बाड़ाँ पर टपणा छड़ी देह् I

घरें तू दिक्ख अपणे पैया कूड़ा ,
बखोरी लोकां दे दसणा छड़ी देह् I

सुखे नै जीणा सुण भाऊ मेरी गल ,
पड़ोसे कन्ने तूँ घुलणा छड़ी देह् I

करी वसुआस अपणे पर चली रैह् ,
धुआरे फंग्गा नै उड़णा छड़ी देह् I

रखी के दम कमांयाँ कम्म मितरा ,
दुयाँ पर आस तां रखणा छड़ी देह् I

बणी के बाल चलदा रैह्या सौगीं ,
सुआरेया जिन्हाँ भुलणा छड़ी देह् I

कमें मत पाएया जे खोरिया सिर ,
घसे तां पौणे हुण डरणा छड़ी देह् I

सिरे दी पंड चुकणा पौणी अप्पूं ,
मुड़ी लोकां बखीं दिखणा छड़ी देह् I

जे मरया सप्प बी नीं रस्ता रोकी ,
लकीरा जो मुड़ी कुटणा छड़ी देह् I

गरीबां पर कनें मजलूमां पर बी ,
तू ‘कंवर’ दिक्खी के हसणा छड़ी देह् I

डॉ. कंवर करतार
‘शैल निकेत ‘ अप्पर बड़ोल दाड़ी
धर्मशाला I
941818548
BharatKaKhajana (http://www.bharatkakhajana.com)