ग़जल

रोंदे पिटदे उमर गुजारी जीणा नीं दिंदे लोक
सिल्ला हल्दी जख्मां तांई पीह्णा नी दिंदे लोक।

फटयो गोड्डे आरकां फट्टियां गल़ा गेया फचकोई
सुथणु कुरतु फटयो मेरे सीणा नी दिं दे लोक।

दर दर भटकां बच्यां तांई मिलै नी कोई टुकड़ा
मिलै गलांदे ईत्थुइ खाईलै नीणा नी दिंदे लोक।

अपणा दुख कजो गलाणा नीं सुणदा हुण कोई
पीड़ दिले दी अथरु बणीगी पीणा नी दिंदे लोक।

गुत्थी गुत्थी कोई नी लांदा तोपदे सब्बो नौआं रुआज नी हुण रफुआं दा सीणाँ नी दिंदे लोक।

गैसा पर हुण बणदी रोटी व्याह होए जां लंगर
क्या दसणा अजकें जमानें तीणां नी दिंदे लोक।

खूह पणैद सारे सुक्के सर्दी होए जां गर्मी
घुट पाणी मिली बी जा तां पीणा नीं दिंदे लोक।

घराट सारे खाली पेयो टप्परु भी दुस्सै हयनी
थैली लेई होए गुजारा हुण पीह्णा नीं दिंदे लोक।

बदली गेया जमाना हुण कोई नीं लांदा लैंहगा
होए बेशक फटया घरें सीणा नी दिंदे लोक।

खरी गल्ल कोई नी सिखदा सारे होयो नास्तक
गुरु ज्ञान जे होए कुसी जो परीणां नीं दिंदे लोक।

पैंठी दिक्खी भुख बधी पाणी पतलु लेई नें बैठे
हुणे हुणे तुआरी चरोटी कलीणा नी दिंदे लोक।

क्या लिखां कजो लिखां लिखां बी तां कुस तांई
भाव दिले दे होयो जख्मी सीणा नीं दिंदे लोक

बदली गेईयो सोच बड़ी कुथी तांयै खरी निराश
बेशक कोईयै मंगी खांदा मीणा नीं दिंदे लोक।

सुरेश भारद्वाज निराश♨
ए-58 धौलाधार कलोनी, लोअर बड़ोल
पी.ओ.दाड़ी, धर्मशाला जिला कागड़ा हिप्र.
176057
मो० 9418823654
9805385225