??खिंद??

खिंद अपणे-आपे च ,
इक क्हाणी हुंदी थी।
एह बचपने ते लेई ने,
बुढ़ापे तिकरे दियां ।
केइयां घटना दी ,
नशाणी हुंदी थी।
खिंद त्रै-चार पीढ़ीयां,
सौगी लेई ने जींदी थी।
अम्मां हर बारी रोई,
जदूं नयोल़ु धेड़ी ने सींदी थी।
नयोलुये दी हर लीर,
केई किछ सणांदी थी।
अम्मां पराणीयां यादां च,
डुबी जांदी थी…..
एह लौकीया बिटिया दी,
फराक हुंदी थी।
एह तिदे नानूयें,
लियूंदी थी।
तिन्ना इसजो पैली बारी,
तदूं पाया था।
जदूं बिटिया दा दादू,
लटैर आया था।
नयोलुये दे सारे कपड़े,
अम्मां दे चेहरे पर।
अलग-अलग भाव,
लियूंदे थे।
इयां लगदा था,
पेई नयोल़ु नी।
अम्मां दे भा्व
सियूंदे थे।
कुसी कपड़े पर अम्मां दा चेहरा,
खिड़खड़ाई जांदा था।
कन्ने कपड़ा बदलूंदेयां ही,
चेहरा मुरझाई जांदा था।
अम्मां खिंदा दी क्हाणी,
केई बारी सुणांदी थी।
खिंद जितणी पराणी हुंदी थी,
तितणी ही लम्मी तिसदी क्हाणी हुंदी थी।

गोपाल शर्मा
जय मार्कीट,
काँगड़ा, हि.प्र.।
9816340603