ग़ज़ल

अजकल तू मित्रा मेरेया कैह ईह्या इ दुड़कदा रैंह्दा
मन तेरा नी ऐं ठकाणे कजो तां -तुआं लुड़कदा रैंह्दा।

ए मतलायै बड़ा पचीदा मिंजो हरदम खुड़कदा रैंह्दा
ग़ज़ल किह्यां बणनी दस कलमा-चा शे’र छुड़कदा रैंह्दा।

बृद्ध आश्रमे दियां पैड़ियां पर मैं बेही नै बड़ा इ सोचया
करमा च लिखया मिलणा-यै तू कजो भुड़कदा रैंह्दा।

बड़ा इ मतलवी एह माह्णु रैह अपणी अपणी करदा
जंजालां फसाई होरना जो अप्पु तां छुड़कदा रैंह्दा।

होरना दी गल्ल बी सुणी लेया कर कैंह म्हेशा मारै अपणी
पल्लैं तेरे कुछ बी नीयैं तू इह्यां इ बुढ़कदा रैंह्दा।

सोचयां सोच ना होऐ गोपाला तेरी सोच कोई बखरी नी
जे करना सै तिन्नी करना तू सोचां इ तुड़कदा रैंह्दा।

इक इक करी टिरी गै खपरे मिस्त्री टौरी बींडु लाईया
बाहर बरान्डे बेही नै बाबा बस हुक्के गुड़कदा रैह्ंदा।

प्रीत पाई कनै नी नभाई छड्डी गयी तिज्जो सै अधमरा
तिसा तांई दिल तेरा कजो अज बी धुडकदा रैंह्दा।

मतलबे दे हन सब्बो साथी क्या अपणे क्या बगाने
तिन्ना तांईं तू कजो निराश हरदम उड़कदा रैंह्दा।

सुरेश भारद्वाज निराश🔴
धौलाधार कलोनी लोअर बड़ोल
पींओ. दाड़ी धर्मशाला हि प्र
176057
मो० 9418823654