(टुक टुक चारीं मैं दिक्खा नां)
टुक टुक चारीं मैं दिक्खा नां, चाऊं पासे एह क्या होआ दा।
पुत्र बब्बे न्नैं लड़ोआ दा, धी मौऊ न्नैं नीं बोला दी।
नूंह अप्पणे घरैं नीं बस्सा दी, सरीक सरीके सौगी लड़ोआ दा।
टुक टुक चारीं मैं दिक्खा रा, चौऊं पासैं एह क्या होआ दा।
नेता देसे जो हन्न ठग्गा दे, संसद अंदर जाई जाई न्नैं सैह् डड्डादे।
कम्म कोई खरा नीं कमा करदे, पैसे पैसे ताईं मरा करदे।
परोह्त जजमानां जो ठग्गा करदे, जेबां अप्पणिआं जाई भरा करदे।
टुक टुक चारीं मैं दिक्खा नां, चाऊं पासे एह क्या होआ दा ।
पुलिस चोरे न्नैं मिक्कियादी, सच्चा ढाईं पाई न्नैं रोआ दा।
मरीजे जो कोई नीं दिक्खा दा, डाक्टर कुर्सिया बैठी हस्सा दा।
निआणें स्कूले तैं हन नट्ठा रे, मास्टर तिन्हां जो नीं पुच्छा दा।
टुक टुक चारीं मैं दिक्खा नां, चाऊं पासे एह क्या होआ दा ।
आएयो बद्दल़ नीं बरसा दे, सूरज धुप्पा न्नैं बुरी ताईं फूका दा।
गाईं अवारा लोकी छड्डादे,बंदर लाइयां ऐनकां खोआ दे।
बच्चे गलाई नीं हन मन्ना दे, अम्मा बापू कूणा बैई न्नैं रोआ दे।
टुक टुक चारीं मैं दिक्खा नां, चाऊं पासे एह क्या होआ दा ।
जणास खसमें जो ऐ कुट्टा दी, सैह् डुस डुस चारीं रोआ दा।
ठाणे सैह् नीं जाई सकदा, कुसी सौगी नीं सैह् गलाई सक्कदा।
उल्टा जमाना आई लग्गेया, क्या बणगा इस संसारे दा।
टुक टुक चारीं मैं दिक्खा नां, चाऊं पासे एह क्या होआ दा ।
एत्थू झूठे हन फणसोआ दे, सच्चे बैठी कूणा रोआ दे।
हुण तां होई गई ऐ हद मित्तरो, सब्ब इक्कोई रंग रंगोआ दे।
क्या बणगा मेरे देसे रा, जवान बे बजह हैन्न मरोआ दे।
परिमल टुक टुक चारीं दिक्खा दा, चाऊं पासे एह क्या होआ दा ।।
नंदकिशोर परिमल, गांव व डा. गुलेर
तह. देहरा, जिला. कांगड़ा (हि_प्र)
पिन. 176033, संपर्क. 9418187358