गज़ल

तेरा ज़ुल्म भी नीं रुकेया कदी।
मेरा सब्र भी नीं मुकेया कदी।।

इक बरी अगें तेरे नपी नें ये सिर।
मेरा होरती नीं झुकेया कदी।।

पई पिछे गुजारी दिती उम्र इक।
तेरा भेत ज़रा नीं खुड़ेया कदी।।

टिपडुआं पढ़ाई थकी गै असां।
मेल महुर्त सैह् नीं जुड़ेया कदी।।

मेरा मर्ज़ भी था नराला देहा।
टुळाह् वैदे दा नीं पुड़ेया कदी।।

नदी दे किनारे बणी नें चले।
पुळ मसां कुथी नीं मिलेया कदी।।

गुड़ाई सगाई करी नें दिखी।
सुआडुये च फुल नीं खिलेया कदी।।

करी लै जतन खूब, सैओ जेहा।
टुटी नें फिरी नीं जुड़ेया कदी।।

कमाना ते तीर लबड़े ते बोल जे।
निकळेया फिरी नीं मुड़ेया कदी।।

चमक हीरे दी सारेयां जो सुझे।
हुनर तां रिहा नीं दबेया कदी।।

भगत राम मंडोत्रा
‘कमला कुटीर’ गांव – चम्बी,
डाकघर – संघोल, तहसील – जयसिंहपुर,
जिला – कांगड़ा (हि. प्र.) – 176091