ग़ज़ल/सुरेश भारद्वाज निराश

ग़ज़ल

ठौकरे बगैर कुसी गाँह झुकणा छडि देह्
सिद्धा चल थांईं थाईं रुकणा छडि देह्।

हिम्मत रख जिन्दगी एह ईह्यां इ कटोणी
सोची सोची घड़ी घड़ी मुकणा छडि देह्।

कर्म अपणे खरे रख बेड़ा लंघै पार तेरा
दूर रैह बुराईया ते नेड़े ढुकणा छडि देह्।

खरायै जमाना लग्गै बुरा कैंह तिज्जो
खरे कम्मा तांई तू लुक्कणा छडि देह्।

सारेयां दा हकै जिन्दगी इक्क जीणी खरी
नेड़ पड़ेस रस्सै बस्सै धुक्खणा छडि देह्।

देस सेबा करणा तेरा बी तां फर्ज बणदा
बगानैं सिरें भार तू सुटणा छडि देह्।

तेरे बगैर मेरा हुण रेह्या नी बजूद कोई
दंदां हेठ ओंठ अपणे टुकणा छडि देह्।
सारे लोक एत्थु दे तेरे अपणे इ तां हन,
चोरां सांई सारेयां जो लुटणा छडि देह्।

लोकां दियाँ लत्तां कजो रैहदा तू खींजदा
जड़ाँ ईह्यां लोकां दियां तू पुटणा छडि देह्।

अपणे तांई सब्बो रोंदे तू कजो चीखदा
जे होआ दा होणा दे तू घुटणा छडि देह्

प्यारे दा मुल्ल एत्थु कोई बी नी जाणदा
मत भरें ठण्डे साह् तू सुकणा छडि देह्।

अग्ग लगियो चौनी पासें जल़ी गिया मुल्क
भड़काणे बाल़ी बोलियां चुकणा छडि देह्।

निराश कैंहनी सोचदे अंदरे दे दुस्मण
अपणे इ मुह़ाँ पर हुण थुकणा छडि देह्।

सुरेश भारद्वाज निराश
धौलाधार कलोनी लोअर बड़ोल
पी ओ दाड़ी धर्मशाला हिप्र

176057
मो० 9418823654

2 comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *