म्हारा ग्रांँ

म्हारे ग्रायें दी गल्ल मत पुच्छा,
पढ़यो माहणु, बंजर खेत।

चायें चायें टपरु बणाया,
मिस्त्रियें छापी दित्ती रेत।

दो घुट लाई रोटी खान्दे
होल़ैं होल़ैं मुका दी सेह्त।

मै वचारा सुआड़ुए बांदा,
मजे नै मौजा ल़ैण घरेत।

बाजी बाहणैं बैंद मुकाई,
मिली ने लोका जुआड़ी पेह्ठ।

छोटा भाऊ मारा पौंदा,
लाड़ी बोलदी लुच्चा जेठ।

अम्मा बोलै मंजे बुणी दे,
कदूं तक बच्चा सौंगी हेठ।

रोज़ बांन्दर सैणा औंदी,
अप्पु खोली लैंदे गेट।

खाणे दियां बढ़ियां मौजां,
तल़यो भटूरु सौगी बेठ।

रस्ते तांई लेई मंजूरी,
पैसयां खाई गेया मोआ मेट।

सौगी रैहणा हण नी पुगदा,
नी झलोन्दा हण कदेठ।

बल़ा टुट्टा मंगी लियोंदा,
खरीदे बड़े मैंहगे सलेट ।

किह्यां बदलां टुट्या डुआणा
मेखां किल्लो रुपैये त्रेहट।

बडी डूंगी मार मैहंगाईया,
रोटी मंगै भुक्खा पेट।

म्हारिया बौड़िया वताल़ू रैंहदा,
बोलदे पिपल़ें रैंहदा प्रेत।

कुड़िया दा जे ब्याह होऐ तां,
बड़े हेठ ठहरै जनेत।

निराश बोलै बणी जा माहणु
मत दें लोकां जो ग्रायें दे भेत।

सुरेश भारद्वाज *निराश*😡

ये प्रयास भी

पहाड़ी भाषा को मान्यता मिले, इस संर्दभ में विधायक महोदय को ज्ञापन सौंपते आथर्ज गिल्ड आफ हिमाचल के अधिकारी एवं सदस्यगण।
श्री प्रभात शर्मा जी, सुरेश भारद्वाज निराश, सतपाल घृतवंशी जी , डा० कुशल कटोच जी, गोपाल शर्मा जी एवं रमेश मस्ताना जी।