कविता/ नवीन शर्मा नवीन

सौण दे महीनें मेले नाग मंदर लगदे।
देणियां पन्हाड़ियां सारे लोक चलदे।।

अम्मां बणाया सीरा-भल्ले-भटूरे।
नूह् नी त्यार होई सस्सड़ी घूरे।
बच्चयां त्यार करी गड्डियाँ च चढ़दे।
देणियां पन्हाड़ियां सारे लोक चलदे।।
सौण……

टेकी मत्थे बन्नी धागे खाईने भगारा।
सुखणां चढांदी अम्मा मंगै खैर म्हारा।
सबनायो बाबयां दे दरसण फबदे।
देणियां पन्हाड़ियां सारे लोक चलदे।।
सौण…

जागत गलांदा फूकणू फुलाणा।
नणदिया वास्ते मैं चूड़ा ल्याणा।
दिख बापू मुंडुआं ने झूले जाई चढ़दे।
देणियां पन्हाड़ियां सारे लोक चलदे।।
सौण……..

हंडी फिरी हसी खेली मिल्ली मल्लाई।
लेईयां जलेबियां डाह्टी भी लुआई।
संझा वेले मुड़ी सब्बो घरेयो चलदे।
देणियां पन्हाड़ियां सारे लोक चलदे।।

सौण दे महीनें मेले नाग मंदर लगदे।
देणियां पन्हाड़ियां सारे लोक चलदे।।

नागां बाबयां दी जय, भगतां प्यार्यां दी जय!
नवीन शर्मा नवीन

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *