कविता/ नवीन हलदूणवी

पुच्छा दा मिंजो ते ताऊ,
कुण स्हाड़े ते बड्डा जाह्ऊ?

भारत ऐ सुन्ने दी चिड़िया,
कुण-कुण नी ऐं पुत्त-कमाऊ?

मौज़ां लैंदे चोर – उचक्के,
खुल्ले घुम्मण गुज्झ – पचाऊ।

टुकड़े-टुकड़े करने ब्हाल़ा ,
कित्तणा-क ऐ माल- बकाऊ?

किंह्यां करघा देस – तरक्की,
भाषण कुण दिंदा भड़काऊ?

“नवीन” नच्चण नंगमनंगे,
कुण कविया ऐ डंग-टपाऊ?

नवीन हलदूणवी
09418846773
काव्य-कुंज जसूर-176201,
जिला कांगड़ा,. हिमाचल।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *