ग़जल (हास ब्यंग)
कजो भाऊ तिजो दस्साँ
भ्यागा उट्ठी भाँड्डे घस्साँ।

बड़ियाँ मैं मिन्नताँ करदा
कितणे- करी पैराँ झस्साँ।

अपणी मेरी गल नी मनदी
कुदिया लाड़िया लेई नस्साँ।

बापू हरदम पिछैं रैंहदा
दस कुसीनै किह्याँ फस्साँ।

मजनूं बणेया कुड़ी छेड़ीती
जुत्ती पौएताँ सिरे झस्साँ।

पंज सै: मारै इक्क गिणै
बाह-री गिणती बाह! ढस्साँ।

बाजी हिलणें टप्परु हिल्लै
घरें कुसदें जाई बस्साँ।

अज्ज मोआ ! सब रोआ दे
मैं किल्ला कुस नै हस्साँ।

ताऊ ! ताऊ ! सारे बोलण
सप बणी मैं सबगी डस्साँ।

पैदल तां हुण नीं चलोंदा
बौणा कुदिया गड्डिया असाँ।

लाड़िया कनै अणबण होई
सै: भुड़कै मैं दौणी कस्साँ।

बे -चज्जा यै पल्लै पेया
इसदैं घरैं किह्याँ बस्साँ।

अम्मा दे नी चलदे गोड्डे
लाड़िया रोज जाण चस्साँ।

सच्चा होंदा जमीन फटदी
फरेबे सौगी किह्यांँ धस्साँ।

नूआँ गलाण बड़ियाँ दुखी
मरदियाँ कैंहनी ऐबण सस्साँ।

भारी भरकम कराया लग्गै
बज्जण बाजे सारियाँ बस्साँ।

सारे खाँदे मधरा मिट्ठा
मैं बचारा सुक्कयाँ रस्साँ।

कन्न मेरे पतल़े पैईगैयो
सुणी सुणी नै तेरियाँ ठस्साँ।

उल्टा पुल्टा लोक कमादे
नास पुट्टिता इन्ना घड़मस्साँ

पटकियो तौंदी दूरयै बौड़ी
पाणिये ढोंदेयाँ औण गस्साँ।

कराँजे कुछताँ मिंजो मिल्लै
कुण दिया दा मुफ्त जसाँ।

लोक गलांदे ग़जल लिखिलै
निराश शे’रे कितणे कस्साँ।

सुरेश भारद्वाज निराश♨
धौलाधार कलोनी झिकली बड़ोल
पी.ओ. दाड़ी ( धर्मशाला )
जिला कांगड़ा हि. प्र
पिन 176057
मो० 9805385225