ग़ज़ल
सैह चलित्तरबाज बडा इ पतन्दर निकलेया
जितणा था बाहर सैह उतणाइ अंदर निकलेया।

क्या गलाणा तिसदे बारे बड़ा धुरन्दर निकलेया
पोरस बणी आया सैह पर सिकन्दर निकलेया।

जाणा था मुंबई मैं दिल्ली जाई गडिया उतरेया
नज़र गई टेसने पर सैह जलन्धर निकलेया।

गंडुआं दा बी बाया मैल पाणी खूव दित्ता
फसल जम्मी के दिखया सैह चुकन्दर निकलेया।

शेरे दा शिकार कित्ता मुँह नेरें मारी गोल़ी
बाजें गाजें चुक्की ल्योंदा गरीव वंदर निकलेया।

बणी गिया सेठ मैं चौनी पासें नौकर इ नौकर
खाणे जो रोटी नी थी फोका सुन्नदर निकल़ेया।

गया मैं बैष्णो देबी मन्नत पूरी करने तांईं
जां बड़या मैं मंदरैं साहब हरमंदर निकलेया।

लेई गेई थी सैह मिंजो पंज सतारा होटल,
पतानी था क्या खुआया बाबे दा लंगर निकलेया।

गलाणे जो सैह दोस्त बणया होईगै इक्क असां
सच आया सामणें जाह्लु खीसें खंजर निकलेया।

सोचेया पताल़ लोकै जाईयै दिखिये गिठु मुठु
डूगैं खूऐं छाल़ मारी धरत न अम्वर निकलेया।

घर डुव्या डैमें मेरा जमीन मिल्ली राजस्थान
मिलयो पैसे गै मुकी मरब्बा बंजर निकलेया।

सौंए सुखणी छोरु जम्मा बड़ियाँ लाईयाँ धामा
मेद थी किछ वणी दसगा सैह बी डंगर निकलेया।

सीपियाँ चा मोती मिलदे लैंदा जाह्लु छाअल़ियाँ
तपदे रेतैं बक्ख फूके झूठा समन्दर निकलेया।

निराश इस जीणे दी खातर मैं केई पापड़ बेले
सब किछ करी दिखया फेल हर संदर निकलेया

सुरेश भारद्वाज निराश
धौलाधार कलोनी, लोअर बड़ोल
पी.ओ. दाड़ी (धर्मशाला)
जिला कांगड़ा हि प्र. 1760 57
मो० 9805385225
9418823654