ग़ज़ल

अज लुट्टिलै खुआड़ा धुप्पा दा
गेया खुली तरमाड़ा धुप्पा दा।

छौंआं बेही कैह ठरा दा
ज़रा पीअ लै काढ़ा धुप्पा दा।

मौसम होईया बड़ा इ ठण्डा
तू पाई रख साढ़ा धुप्पा दा।

अम्मा बाहर खिंद बछाई लै
अज छैल़ ध्याड़ा धुप्पा दा।

हौल़ै हौल़ें हड्ड तपा दे
अज पेया तराड़ा धुप्पा दा।

छैल़ बांकी ए बणियों ठणियों
मत झूंड गुआड़ा धुप्पा दा।

दिन भर मोया धुप सेकदा
कोई मंगै न भाड़ा धुप्पा दा।

छैल़ बांका चादरु ओडेया
दस्स कुण लाड़ा धुप्पा दा

डंगर माहणु सब सेका दे
अज हाल ए माड़ा धुप्पा दा।

सुरेश भारद्वाज निराश☺
धौलाधार कलोनी लोअर बड़ोल पी.ओं दाड़ी
(धर्मशाला)
176057
मो० 9805385225