ग़जल
रोन्दे चेहरयां जो हसणे पर बड़ा नाज़ ऐ
तोपदे ने मद्धरा, मिलदा रोज़ साग़ ए।

रंग बरंगे माहणु बेपीरियां हण नीतां
पैरां पायो दस्ताने, हथां च जुराव ऐ।

क्या दसणा मित्रो ढव इसा दुनिया दा
गलासें पाईयां सींखां, कौलिया च शराव ऐ।

मत गलांदे मिंजो, तुसां हसणे जो कदि
औवा अज्ज ऊत्त ऐ , कनै खाणा खराव ऐ।

लुक्की लुक्की झाकदीयै सैह कैंह मिंजो
सामणे तिसा औणे जो लगदी कैंह लाज़ ऐ।

बदलोई कैंह गेया सब किछ अजकल
बिगड़ी गेया माहणु, कनै बिगडेया समाज ऐ।

निराश तू जे ग्लाणा, सोची समझी गलाअ
रोज़ मोआ तेरे पर , गिरदी अणमुक गाज़ ऐ।

सुरेश भारद्वाज निराश
धौलाधार कलोनी लोअर बड़ोल
पी.ओ.दाड़ी धर्मशाला हि प्र
176057
9805385225

Sent from BharatKaKhajana