ग़ज़ल/सुरेश भारद्वाज निराश

ग़ज़ल
अधिया राती भित्तां ठोरी तू क्या गलाणा था
बड्डे बड्डे डेले फाड़ी मिंजो क्या समझाणा था।

बड़ी उपर भूत रैंहदा मिंजो सारा पता यै
नेहरिया राती मिंजो कजो आया तू डराणा था।

चौनी पासें खेतरे जो दित्तया था तू बाड़ खरा
औणे जाणे तांई कैह्नी रखया कोई लंघाणा था।

बौड़ी भरोईयो गादा नै सीर होईयो पूरी बंद
सौ घड़ेयाँ दी लैणी जो पाणी किह्यां पुगाणा था।

जीन्दा मरया इक बराबर होया अज्जदा माहणु
भागवत गीता रैहणा दे गरुड़ पुराण सुणाणा था

सड़का कंडै सुत्या सै: पाल़े नै गिया ठण्डोई
किछ तां सोच रखदा तू पट्टु कोई डुआणा था।

जादिया दी खातर बीर स्हाड़े कई शहीद होयिगै
दो टुकड़े ताँ होणेइ थे कश्मीर कजो फसाणा था।

ठंडी ओवरी सुआईति अम्मां मोया सर्मनी आई
अम्मा कदि किछनी मंगया तूतां फर्ज नभाणा था।

चौनी पासैं अग्ग थी लगियो जल़ा दी थी बस्ती
कैंह खड़ोई दिखदा रिह्या कोई घर बचाणा था।

सस नूँह देईयाँ लड़ियाँ धरत अंबर इक करिते
छोरु भेड्डू मित्रे दा तिन्नी मुँड इ लाह्णा था।

सरीक भ्याल बड़े चंदरे गाल़ मुआल़ करदे इ रैंह्दे
चीज बस्त भाँडा ठीकर तिन्हां ते कुनी बचाणा था।

सारी उम्र तिन्ना जो मैं सीने कनै लाई रखया
बारी जाह्लु आई मेरी बरांडे मेरा ठकाणा था।

सै: म्हारा नापाक पड़ेसी बेहले पंगे रोज लैंदा
कहत्तर च कैंह छडिता तदैह्ड़ी इ मुकाणा था।

माली तां में घुल़ी लैंदा जे इतणा कमज़ोर नी होंदा
इक स्यापा होर बी था ढोल कुनी बजाणा था।

धेला धेला जोड़ी करी छत टप्परुए जो पाई थी
देह्यी आई न्हेरी बरखा उड्डी गिया डुआणा था।

तिन्ना घट शाअरे नीं कित्ते तेरें मुंडें टोल़ नी लग्गी
छड्डी छडाई आई जांदी मोया जरा मुस्काणा था।

अधिया राती आई खड़ोता औणे दा एह टैमै क्या
सारे सुत्यो इक्की कमरें सैह कुथु सुआणा था।

पटर पटर ग्रेजी बोल्लण स्कूलां छोरु अजकल
मास्टरे जो हिन्दी नी औए सैह कुनी पढ़ाणा था।

मिंजो राती चान्नणियाँ होलें करी सैह बोली
अड़यो तुसां अंदर बौआ मैं जरा क नहाणा था।

कोठे दियाँ सैह पौड़ियाँ मती बरी मैं चढियाँ
हर बरी सैह बोली बस दुखड़ा इ सुणाणा था?

कई बरी मैं मंदर गिया कनै बड़े टेक्के मत्थे
क्या था मेरे पल्लैं जेह्ड़ा तित्थु मैं चढाणा था।

बड़ा तिसदा मुंड ठोरया तिस जो अक्कल नी आई
मैं ई भुल्ला रस्ता तिसयो क्या समझाणा था।

मता तिसा जो प्यार दित्ता हरदम रिह्या चाह्ंदा
क्या पता था मिंजो मैं अपणा इ नास पुटाणा था।

टुटी गेईयाँ आसाँ सारियाँ दिल मेरा टुटी गिया
निराश इसते बाद दस्स मेरा कुथु ठकाणा था।

सुरेश भारद्वाज निराश
धौलाधार कलोनी लोअर बड़ोल
पी.ओ. दाड़ी धर्मशाला
पिन 176057
मो० 9805385225

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *