ग़ज़ल
सामणे जाल्हू असां खड़ोई गै I
सैह् तां मचले जाणी के ई होई गै II

मुस्कराए होरा गल्ला थे असां ,
सैह् भनौरे साईं भंडरोई गै I

जींदयां दिख्या कदी नीं मुँह तिन्हां,
मरने पर बारस बणी खड़ोई गै I

सीरनी अणमोल तू समझ जरा,
नां कि सूरत दिक्खी नंडरोई गै I

छैल जीणा अपणे पर तां काबू रख,
नां कि गल्ला गल्ला ई भतोई गै I

मत बणा खड़पंच बेबकूफां गाँह्,
डाल़ू झोटे जे लड़े पटोई गै I

पांदे फोह्लणियाँ नीं सांजो था पता,
गल्लाँ गल्लाँ सैह् मने जो टोही गै I

महफला बिच भेद खुलया बी जदूं,
पाणिएं ते पतले सैह् फी होई गै I

मत्थे दा खोह्ई नीं सकदा बी कोई ,
भौएँ ‘कंवर’ हत्थां दे जो खोह्ई गै I

डॉ. कंवर करतार
‘शैल निकेत’ अप्पर बड़ोल ,दाड़ी
धर्मशाला, कांगड़ा, हि.प्र.