ग़ज़ल /पहाड़ी
चौंह् पासेयाँ चौधर टुचिए दी I
कोई गल नीं सुणदा दुखिए दी II

सच होणी हालत माड़ी भाऊ ,
खह्ऊँ खह्ऊँ करदे हुकिए दी I

हन सारे बोलदे तिसजो बोबो ,
जेह्ड़ी लाड़ी होए सुखिए दी I

जाणी के कोई लै नीं पंगा ,
गल नीं टोकै अपणे मुखिए दी I

मंदर जाई अरदासा सुण तू ,
महलां बिच रेंह्दे तिस भिखिए दी I

किछ लिखगा दिलमूह्णे जे आखर ,
ताँईं कवता नचगी कविये दी I

मारे हौवा बिच बुढ़कां सुटदा ,
पक्की गल नीं ‘कंवर’ ठुसिए दी I

डॉ. कंवर करतार
‘शैल निकेत’ अप्पर बडोल
धर्मशाला

Sent from BharatKaKhajana