सड़क सुरक्षा से होगी जीवन की रक्षा

सड़क सुरक्षा को लेकर आज मानव जाति लापरवाह होती जा रही है। हमारे ग्रन्थों में लिखा गया है कि मानव जीवन सबसे अनमोल होता है कई पुण्यों के बाद हमे ये शरीर प्राप्त होता है। इसलिए हमें जीवन को सही अर्थों में जीना चाहिए। विज्ञान के इस युग में मनुष्य ने विकास के इस पथ पर चलते चलते जीवन के लिए संकट के बादल भी घने कर लिए हैं। इसमें विज्ञान का कसूर नही मनुष्य की अपनी लापरवाही है। एक ऐसी ही लापरवाही आजकल दुर्घटना का सबसे बड़ा कारण है। और वो लापरवाही है सड़क दुर्घटना जी हाँ, आजकल दिन प्रतिदिन सड़क हादसे बढ़ते जा रहे हैं।मनुष्य सड़कों पर बिल्कुल लापरवाह होकर चल रहा है जिसके कारण सड़क हादसों से कई लोग काल के ग्रास बनते जा रहे हैं। और सबसे बड़ी बात ये है कि इन हादसों के शिकार अधिकतर युवा होते हैं। क्योंकि जोश में होश खोना युवाओं के लिए आम बात हो गयी है। जिससे वो गाडियाँ बहुत ही अधिक तेजी से चलाते हैं और अपनी जान से हाथ धो बैठते हैं या फिर जीवन भर के लिए अपाहिज हो जाते हैं। ऐसे लोगों के घर वालों पर जी बीतती है उसका अंदाजा कोई भी नही लगा सकता। कई बार कारण कुछ और भी रहते हैं। परन्तु लापरवाही हमेशा ही सबसे ऊपर रहती है। क्योंकि गाडियाँ कभी खुद दुर्घटना नही करती दुर्घटना तभी होती है जब वो चल रही होती है फिर चाहे गलती आपकी हो या सामने वाले की। इसलिए सड़क पर चलते समय हमेशा सजग रहें, वाहन गति हमेशा ही नियंत्रित होनी चाहिए। कभी खराब सड़क, खराब मौसम भी हादसे का कारण बनते हैं तो उस समय भी चालक की सूझबूझ बहुत जरूरी रहती है। सड़क सुरक्षा की तरफ सरकार भी कई महत्वपूर्ण कार्य कर रही है जैसे लोगों को जागरूक करना। लापरवाही से गाड़ी चलाने वालों पर शिकंजा कसना, उनके लाइसेंस रद करना , जुर्माना करना इत्यादि। इसके अलावा भी कई तरह के अभियान सड़क सुरक्षा हेतु चल रहे हैं जैसे सड़क सुरक्षा सप्ताह हर जिले में मनाया जा रहा है। जिसमें पुलिस विभाग द्वारा स्कूल, कॉलेज में बच्चों को सड़क हादसों से बचने तथा हमेशा यातायात के नियमों का पालन करना इत्यादि सिखाया जाता है।
एक सरकारी आंकड़ों की तरफ नजर दौड़ाएं तो आप हैरान हो जाएंगे मिनिस्ट्री ऑफ रॉड ट्रांसपोर्ट एंड हाईवे के अनुसार हर साल सड़क हादसों में लगभग 1,37,000 लोग अपनी जान गवा देते हैं। एक रिपोर्ट के अनुसार अकेले 2019 में ही 1,51,000 लोग सड़क हादसों में मारे गए थे। भारत मे हर रोज 413 छोटी बड़ी सड़क दुर्घटनाऐ होती हैं जिसमें हर दिन 1000 के लगभग लोग दुर्घटनाग्रस्त होते हैं जिसमें कई अपनी जान से हाथ धो बैठते हैं। ये एक बहुत आंकड़ा हैं। ये इतना खतरनाक है कि कोरोना जैसी महामारी भी इसके आगे कुछ नही है। और ये सिर्फ वह आंकड़े हैं जो रेजिस्टर्ड होते हैं जिनका पता किसी रिकॉर्ड से लग जाता है इसके अलावा वो दुर्घटनाएं जो किसी रिकॉर्ड में नही वो अलग से तो आप खुद अंदाजा लगा सकते हैं कि सड़क सुरक्षा कितनी महत्वपूर्ण है। हर वर्ष भारत की जीडीपी का 3 से 5 प्रतिशत सड़क दुर्घटनाओं में ही खर्च हो जाता है।
सड़क हादसे में किसी की जान न जाए इसके लिए भारत के कानून में भी प्रावधान है सुप्रीम कोर्ट द्वारा 30 march 2016 को लागू किया गया “फोर्स ऑफ लॉ” में गुड़ समृतन कानून से जाना जाता है यदि सड़क में कोई व्यक्ति हादसे का शिकार हो जाए तो ये आम आदमी का नैतिक कर्तव्य है कि उसे अस्पताल तक पंहुचाये। यदि समय पर किसी व्यक्ति को निकटतम अस्पताल या ट्रामा सेंटर पंहुचाया जाए तो उसकी जान बच सकती है इसे स्वर्णिम घण्टा यानि गोल्डन आवर कहा जाता है जिसमे हम किसी भी मासूम की ज़िंदगी को बचा सकते हैं इस कानून के तहत मदद करने वाले व्यक्ति को कानूनी तौर पर सुरक्षित किया जाता है और उसे अनचाही पूछताछ से नही गुजरना पड़ता और इसमें पुलिस आपकी कोई पूछताछ नही करेगी आपको किसी प्रकार की परेशानी नही होगी। अधिकतर लोग इसीलिए किसी की मदद नही करते थे क्योंकि उन्हें पुलिस के कई सवालों का सामना करना पड़ता था तथा उस घटना में उसे गवाही के तौर पर प्रयुक्त किया जाता था अब इसमें एक बड़ा फेरबदल हुआ है। इससे भी अधिक इसमें आपको अपनी पहचान बताने की भी अवश्यकता नही होती। आज कल इस पर भी लोगों को जागरूक किया जा रहा है। जिससे इसे पुराने कानून से ऊपर उठ कर हम किसी की जान बचाने में भागीदार बन सकते हैं। सड़क दुर्घटनाओं का सिलसिला लगातार बढ़ रहा है। अगर हम अपने पहाड़ी राज्य हिमाचल की ही बात करें तो कई वाहन दुर्घटना के शिकार होते हैं। ऊँची पहाड़ियों से नीचे गिर जाते हैं या कंही पहाड़ों के मलवा हादसे का कारण बनता है। कई बार ऐसा देखने मे आता है कि बहुत से युवक बाइक पर दुर्घटना के शिकार होते हैं जिसका मुख्य कारण ओवर स्पीड ही देखा गया है। हम सभी को इन हादसों से सबक लेना चाहिए। अपना ओर अपने परिवार का ध्यान रखना होगा इसलिए ये भी आवश्यक होता है कि वाहन खरीदते समय भी हम ध्यान रखें ऐसे वाहन खरीदें जिससे जान का नुकसान कम हो। इसलिए वाहन कम्पनी को भी वाहन मजबूत बनाने के निर्देश देने जरूरी है क्योंकि कई बार ऐसा भी देखा गया है कि हादसा छोटा होता है परन्तु नुकसान अधिक होता है जिसका कारण वाहन को बनाने में लगा मटेरियल इतना मजबूत नह होता। इन सब बातों को ध्यान में रखते हुए सड़क हादसों से थोड़ा बचाव किया जा सकता है। सड़क सुरक्षा के नियम सख्ती से लागू होने चाहिए। दोपहिया चलाते समय हमेशा हेलमेट पहनना और गाड़ी चलाते समय सीट बैल्ट का प्रयोग जरूरी है। बच्चों को 18 वर्ष के बाद ही वाहन चलाने को देने चाहिए वो भी पूरे नियम अच्छे से समझाने के बाद। पुलिस की भूमिका हर बार बहुत महत्वपूर्ण रहती है। हादसों से पहले ही पुलिस को सड़क सुरक्षा के नियम सख्ती से लागू करने चाहिए कई बार ऐसा भी देखा गया है कि पुलिस तो अपना काम करती है परन्तु चालान से बचने के लिए बहुत से लोग अपनी पंहुच दिखाते हुए नेताओं से फोन करवा कर बचने का प्रयास करते हैं जिससे समाज मे नियमों के प्रति कोई डर नही रहता और सरे आम नियमों की धज्जियां उड़ाई जाती है फिर इस तरीके के अनैतिक व्यवहार से सड़क सुरक्षा की बात सोचना भी बेईमानी होगी। आईए हम सब मिलकर ये संकल्प लें कि सड़क सुरक्षा के नियमों का पालन भी करेंगे और दूसरों को भी प्रेरित करेंगे ताकि ये अनमोल मानव जीवन हमेशा अनमोल ही रहे।

आशीष बहल
चुवाड़ी जिला चम्बा
8219331727