साड्डे पंजाबी व्यंग्य

(चल परां मर)

डॉक्टर कैहंदा शूगर हैगी 

मिट्ठा तुस्सी न खाणा

बी0पी0 तुहाडा हाई हैगा 

लूण भी घट्ट ही पाणा

खिचड़ी,दलिया खाया करो 

सेहत रहूँगी चंगी

हाल तुहाडा माड़ा हैगा 

फ़ेर न पछताणा

मैं केया ओ डॉक्टरा 

तेरा बेड़ा ग़र्क़

जींदे जी क्यों बनाण लग्गा 

मेरी ज़िंदगी नर्क

कुज़ भी खाणा, पीणा नी ते 

जी के की करणा

बिना कुज़ खादेयां पित्तेयाँ सालेया 

शरीर च की रैह जाणा

दीपक कुल्लुवी

7,7,17