….सवाल और जवाब……
सवाल और जवाब समझना और समझाना
ना आये तो जिंदगी उलझ जाती है

जिंदगी भी हर वक्त सवालों घेरे में रहती है
पता नहीं कब आकर जिंदगी से उलझ जाये

हर रोज़ एक सवाल है जिंदगी
हर मोड़ पर मौत से घिरी है जिंदगी

जवाब कब केसा मिले जिंदगी से
हर इंसान को मालूम नहीं

कौन कब साथ छोड़े कौन कब अपने बन जाये
सवालों के घेरे में है ये जिंदगी

जीवन में हर वक्त नई उलझने है
कोई समझे कोई ना समझे

इन्ही उलझनों में जिंदगी जीने के
सवाल और जबाब दोनों है

जो समझ गये वो जी लेते है जो ना समझे
वो सवालों के उलझनों में आज भी है

राम भगत

Sent from BharatKaKhajana