लुंगड़ू एक प्राकृतिक ओषधि

जानिए लुंगड़ू के लाभ

हिमाचल प्रदेश एक ऐसा राज्य जिसे प्रकृति ने खूबसूरती के साथ साथ जड़ी बूटियों का प्राकृतिक भंडार भी भेंट स्वरूप दिया है।उन्ही में से एक है बरसात के समय मिलने वाली सब्जी जिसके कई लाभ हैं ये मात्र सब्जी नही बल्कि एक आयुर्वेदिक दवाई भी है और नाम है
“लुंगड़ू” जिसे अंग्रेजी में 

Fiddlehead Fern कहा जाता है 

हिमाचल के अलग अलग हिस्सों में अलग नाम से पुकारा जाता है।


इसे कंही “खसरोड” कंही “लिंगड” के नाम से जाना जाता है।

कंहा कंहा पाई जाती है:-

ये चंबा, कुल्लू, शिमला,किन्नौर समेत हिमाचल प्रदेश के कई इलाकों में बरसात के मौसम में बहुत मात्रा में उगते हैं। हिमाचल के अलावा उत्तराखण्ड में तथा ठंडी जलवायु वाले क्षेत्र चीन, रूस और अमेरिका में लुंगड़ू उगता है।

उपयोग:- 

  इसे सब्जी के तौर पर, आचार के तौर पर सलाद या बाकी सब्जियों के साथ मिक्स करके खाया जा सकता है। लुंगड़ू में कई पोषक तत्व पाए जाते हैं जो कई बीमारियों में लाभदायक सिद्ध होते हैं।

ओषधि के रूप में:-

लुंगड़ू शुगर,हार्ट आदि के मरीजों के लिए रामबाण है। इसमें fats बिल्कुल नही होता, न ही Cholesterol इसलिए ये हार्ट के मरीजों के लिए लाभकारी सिद्ध होती है।

इसमे सब प्रकार के विटामिन, मिनरल, ओर Macro nutrients का अच्छा स्त्रोत माना जाता है।

इससे आंखों की रोशनी बढ़ती है साथ ही पेट के कई रोगों के लिए भी ये ओषधि का काम करता है।

फफरू:-

इसके साथ ही एक ओर सब्जी उगती है जिसे 

“फफरू” कहा जाता है जिसका साग खाया जाता है।

प्रकृति की गौद में:-

ये पूरी तरह से प्राकृतिक है जिसका कोई वीज डाल कर इसे नही उगाया जाता। ये खुद ही पानी वाली जगह में तैयार हो जाती है। इसकी खेती नही होती फिर भी ये बहुत अधिक मात्रा में प्रकृति की गौद में उग आती है।
आमदनी का स्त्रोत:- 

ये घरेलू औरतो के लिए आमदनी के भी स्त्रोत है छोटे छोटे बंडल बना कर इसे 10 से 20 रुपये किलो बेचा भी जाता है। कुछ जगह इसका आचार बना कर भी बेचा जाता है।


आओ अपनी इस प्राकृतिक संपदा को हर जगह पँहुचाएँ। अधिक से अधिक शेयर करें।
लेखक

आशीष बहल 

चुवाड़ी जिला चम्बा

Ph 9736296410

हिमाचल की सबसे खूबसूरत जगह जंहा आप जान पसन्द करेंगे पढ़ें नीचे दिए लिंक पर।

धरती का स्वर्ग है जोत/Ashish Behal

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *