शीर्षक (मंहगाईया रा जमाना)
इस मंहगाईया रे जमाने मित्तरो, जीणा नीं आसान रहिगेया ।
कमांगे तां तुस्स खांगे मित्तरो, बिना कमाए रैहणां नीं आसान रहिगेया ।
पैहलैं तां इक कमाए सारे खांदे थे, जमाना सैह् हुण तां पिच्छैं रहिगेया।
पिता जी मेरे गल्ल थे गलांदे, जितने जी, सब्बो कमाण, तां जीणा आसान होईगेया।
इस मंहगाईया रे दौरे मित्तरो, जीणा नीं आसान रहिगेया ।
रल़ी मिली सारे कम्म कमांगे, ताईं अग्गे बध्धणे रे सपने लैंगे।
बेल्ले बैठी, गप्पां मारी, जीणां हुण सैह् तमाम होईगेया।
बेला बदला रा, जीणे रा ढंग बदला रा, कम्माणा नीं हण आसान रहिगेया।
कल जुग लग्गेया, कला रा जमाना, नौंआं नौंआं सोचा कीयां कम्माणां।
फिरी तां जीणां नीं मुस्कल भाऊआ, सब फिरी समझा आसान होईगेया।
निठ्ठले नीं बौंह्दे अग्गे बध्धणे आल़े, जाई जाई न्नैं सैह् बौहड़ी गौंह्दे।
उप्पर थल्लैं, अग्गे पिच्छैं, इतांह, उतांह जाई, कुछ न कुछ कमाई लैंदे।
सुआन कुसी जो सैह् नीं मारन, नौंआं रस्ता सैह् बणाई लैंदे।
कम्माणें ताईं खुस सैह् रैंहदे, अप्पणिआं निंदरा सैह् सौंदे बौंह्दे।
परिमल मुस्कल तिनां ताईं किछ नीं, तिन्हां ताईं तां जीणां हण आसान होईगेया।
जीणां तां तिनां ताईं, अज्ज आसान होईगेया।।
नंदकिशोर परिमल, गांव व डा, गुलेर
तह. देहरा, जिला, कांगड़ा (हि_प्र)
पिन. 176033, संपर्क. 9418187358
Sent from BharatKaKhajana