शीर्षक (फक्कड़)
फक्कड़ तां भाई फक्कड़ हुंदे ।
कुसीं तैं नीं सैह् फक्कड़ डरदे ।
फक्कड़ां तैं ऐ सारी दुनिया डरदी।
डरदी ऐ न्नैं हर हर करदी।
जे औंदा मुंहे, बोल्लण फक्कड़ ।
सैह् नीं जानण क्या हुंदी अक्कड़।
फक्कड़ तां हमेशा अप्पणी मर्जी करदे।
सच्चो सच गल्लाणें तैं सैह् नीं डरदे ।
अप्पणी मौजा सैह् राजी रैंहदे।
अप्पणिआं नींदरा सौंदे फक्कड़।
खरा बुरा कुछ एह नीं दिक्खदे।
सारेयां जो सैह् दिंदे लक्कड़।
फक्कड़ां दे तां रंग हेन्न निराले।
कुसी तैं नीं सैह् कुछ सुन्नणै आले़।
परिमल फक्कड़ां रे रंग बड़े अनोखे।
मौज औए तां झौंपड़े फूक्कण फक्कड़ ।
नंदकिशोर परिमल, गांव व डा. गुलेर
तह. देहरा, जिला, कांगड़ा (हि_प्र)
पिन. 176033 संपर्क 9418187358