शीर्षक (पेटे पेया घमरोल़ बुरा)
पेटे पेया घमरोल़ बुरा, बेवक्तैं आया मरोड़ बुरा।
भिआगा उट्ठदेयां पट्टंड बुरा, मास्टरे रा लग्गेया चंड्ड बुरा।
चेल्ले दा पाया पख्खंड बुरा, पैसे रा होऐ घमंड बुरा।
छोरू होएया उद्दंड बुरा, दुस्समण होएया प्रचंड बुरा।
चुत्तड़ां च उट्ठेया सैह् गंड बुरा, बजल़ोएया होएया मुस्टंड बुरा।
बिगड़ेया हुंदा भंडौर बुरा, लड़ाईया आल़ा दौर बुरा।
टुटिया डोरा आल़ा पतंग बुरा, बुरे माणुए रा संग बुरा।
काल़े रंगे आल़ा भुच्चंग बुरा, घोड़े जो पेया सैह् ढंग्ग बुरा।
रूक्खे जो पेया परंड्ड बुरा, मेले च बिगड़ेया दबंग बुरा।
गल़े फस्सेया मच्छिया दा कंड बुरा, मुंडुआं रा पाया हुड़दंग बुरा।
खांदेयां लग्गेया सरुंड्ड बुरा, बत्ता चल्लेयां लग्गै सैह् ठुंड बुरा।
भिआगा रा आया सुप्पणा बुरा, परिमल अप्पणेयां रा दित्ता सैह् दर्द बुरा।।
नंदकिशोर परिमल, गांव व डा. गुलेर
तह. देहरा, जिला. कांगड़ा (हि_प्र)
पिन. 176033, संपर्क. 9418187358