पहाड़ी ग़ज़ल/सुरेश भारद्वाज निराश

ग़ज़ल
इन्ना मंहगाईया जड़ां पुट्टियां मित्रो अज म्हारियां,
दोसौ रुपैया दाल़ किल्लो सौ रुपये तरकारियां।

कर्जे लेई खरीदी लेईयां सारेयां अज गड्डियां,
गलियां च रैहन खड़ोतियां नी मिलण सुआरियां।

हस्पताले च बमार बचारे सारे भुईयां सुतयो,
खरीदी दबा कितणी खाणी नी छड्डन बमारियां।

भुक्खें टिहडें कम्म नी होए राशन बड़ा मैंहगा,
कुछ मरे असां भुक्खे भाणे कुछ मारे धुहारियां।

मुशकला ने रोटी मिल्लै करिये तां क्या करिये,
सैह बक्त चले गै हण नी मिलण नुहारियां।

आई दियाल़ी बल़ने दीये चौनी पासैं लोअ ही लोअ,
गरीव वचारा क्या करै लैणी मौज जुआरियां।

डैम बणया हल़दूण डुव्वी थांअ थांअ लोक बसाये,
रिश्ते नाते बिछड़ी गै मुकी गेइयां सरदारियां।

कां कां करदे कोअ औण चीं चीं करदी चिड़ियां,
चौल़ा दी मुट्ठ क्या रंगाड़ी किट किट करन घुटारियां।

जीणा मरना उसदे हथैं कोई कुछ नी करी सकदा,
अज्जे तिक बथेरे जी ले कर उपरे दियां त्यारियां।

नारी शक्ति दी गल्ल मत पुच्छा हुण नी डरदी कुसी ते,
मर्द अजकल होये जनानु मर्द होईयां अज नारियां।

अजकल छोरु गल्ल नी मनदे घरे वाले सारे तंग,
गल्ला गल्ला पंगे करदे सुकिया मारन तारियां।

घरां घरां किच किच होंदी अप्पु बिच बणदी नी,
घरे दियां गल्लां घरें रखा बाहर कजो खलारियां।

मौसम बदलोया एसा अम्बर होया स्याह काल़ा,
देही जोरें चल्ली हवा खुली गेईया द्वरियां।

छणमण करदी लग्गै बांकी फुल्लां बिच घुमदी,
लुक्की लुक्की तिसा दियां फोटो मै तुआरिया।

दुईं दिनां च उतरी गेया मेरा बुखार मियादी भी,
पीता जाह्लु मैं काह्ड़ा लेई करी पंसारियां।

मुलाजम थे सोचदे हड़ताल़ करना हक असां दा,
पता नी कजो हड़ताल़ कित्ती दिक्खा अज बपारियां।

घरें मेरैं कलेश पेया तू लिया दा मौजां,
मेरी हालत कुनी पुच्छी तू मारा दा डुआरियां।

ठौकरे दी पूजा रोज़ घरें घरें होंदी भाऊ,
मंदरां च बसें कित्तयो कैंह ठौकर पुजारियां।

निराश बोलै बाह भाई मित्रो तुहाड़ा भी जवाव नी,
शरावां पी करी टुन तुसां स्हांजो मारन खुमारियां
सुरेश भारद्वाज निराश
ए-58 न्यू धौलाधार कलोनी
लोअर बड़ोल पीओ दाड़ी
धर्मशाला जि.कांगड़ा (हि.प्र)
पिन- 176057
मो० 9418823654

4 comments

  1. जबरदस्त है जनाब……ये हलदूण का विवरण भी सांझा करें… शुक्रिया.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *