ग़ज़ल

राती दे मरयो जो कितणा क रोणा
सुक्किया धरतु कुछ नी लुंगोणा।

बड्डियां जोकांयै खून लेया चूसी,
गरीवां दा हक कितणा क मरोणा।

ना तौअ ना पीड़ ना बमारी न मंजा
उप्परे दा सिद्दा टिकटै कटोणा।

टव्वर वी अजकल किछ नी सुणादा,
दुख असां अपणा कुसने गलोणा।

खड़पे दी डुड्डी जे हथ हण पाणे,
जहरे सवा भाऊ! कुछ नीयै थोणा।

रेही गेईयां जंघां तां मुकी जाणे नखरे,
जे इक बरी बेई गै तां फिरी नी ठोणा।

बाबे दियां सुखणीं, सुखणीं ही रेहियां,
हुण नीं कदि बी दर तिसदें जोणा।

अम्मा ते सिखि लै तूं गुर सारे मड़िये,
तेरे ते कदि नी इसा छाई छल़ोणा।

सूरज तां सबदायै चढ़दा निराश,
मत सोचें इन्नी कदी नी घरोणा।

सुरेश भारद्वाज निराश🔮
धौलाधार कलोनी लोअर बड़ोल
पी.ओ.दाड़ी (धर्मशाला) कांगड़ा. हि.प्र.
176057
मो० 9418823654