नवीन हलदूणवी

नीं ऐं जिन्दड़ी तां जेल ।
खूब हस्सी- हस्सी खेल।।

देस भारते दा नारा ,
बधै – फुलै भाईचारा ।
पढ़ा एकता दे प्हाड़े ,
सच्ची बोल्ली गे पटेल ।।

नीं ऐं जिन्दड़ी तां जेल ।
खूब हस्सी -हस्सी खेल ।।

मुल्ले सिक्ख ते इसाई ,
सब्बो स्हाड़े हन भाई ।
बणीं हिन्दुआं दा नेता ,
करा अप्पू चैं तां मेल ।।

नीं ऐं जिन्दड़ी तां जेल ।
खूब हस्सी -हस्सी खेल ।।

गोरा – काल़ा रूप – रंग ,
मेट्टै स्हाड़ी भुक्ख-नंग ।
इत्थू भड़कै नीं दंगा ,
पाणा पौणी ऐं नकेल ।।

नीं ऐं जिन्दड़ी तां जेल ।
खूब हस्सी -हस्सी खेल ।।

चाढ़ी नसे दी खुमारी ,
आई पुट्ठड़ी बमारी ।
अज्ज कीलणा -ई पौणी,
पुट्ठपैरी एह् चुड़ेल ।।

नीं ऐं जिन्दड़ी तां जेल।
खूब हस्सी – हस्सी खेल ।।

पुट्ठी मायाजाल दौड़,
लोक्की खेल्ला दे फरौड़।
भाइयो समझा दा फेर ,
एह् वनासकारी वेल ।।

नीं ऐं जिन्दड़ी तां जेल ।
खूब हस्सी – हस्सी खेल ।।

ब्हौत्ती छट्ट के बधाणी ,
छिड़ै जोरे दी छराणी ।
करै घरे दा कुधिआड़ा ,
भाइयो जिह्वड़ी चटेल।।

नीं ऐं जिन्दड़ी तां जेल ।
खूब हस्सी – हस्सी खेल ।।

जाल्हू चुब्भदी ऐ लित्त ,
‘नवीन’ भुल्ली जा कवित्त ।
जान देवते बी हारी,
होण बड्डे – बड्डे फेल ।।

नीं ऐं जिन्दड़ी तां जेल ।
खूब हस्सी – हस्सी खेल।।

नवीन हलदूणवी
09418846773
काव्य-कुंज जसूर- 176201,
जिला कांगड़ा , हिमाचल ।