?इयो गल्ल गलोआ दी?
जेठ मीने दी गरमी मितरा,
हुण नी दिख चलोआ दी ।
काल़ी-काबर कन्ने तरेया,
बस इयो गल्ल गलोआ दी ।

जीव – जन्त नी दुस्सा दा,
कम्मकार भी ठुस्सा दा।
गरमीयां च बकल़ोई ने,
लौका मुन्नु रुस्सा दा।
मजूरेदा हथौड़ा नी रुकदा,
टक्का–टक्क यै हुआ दी।
काल़ी–काबर कन्ने तरेया,
बस इयो गल्ल गलोआ दी।

पहाड़ां दी चमक गुआई ती,
बरफ भी पाणी बणाई ती।
अक्कड़ कदी मत करदा कोई,
एह गल्ल समझाई ती।
दिख ठौकरे दी लीला मितरा,
दोआणा खाई ठण्ड पोआ दी।
काल़ी–काबर कन्ने तरेया,
बस इयो गल्ल गलोआ दी।

नाल़ू–खोल़ू सुक्की गेय न,
जाड़–बसूट भी मुक्की गेय न।
सिकर दपैरी राहगीर भी,
रुखे हेठां रुकी गेय न ।
पर भाव कदी नी रुकदे मितरा,
कवता दिख लखोआ दी।
काल़ी–काबर कन्ने तरेया,
बस इयो गल्ल गलोआ दी।

गोपाल शर्मा,
जय मार्कीट, काँगड़ा
हि.प्र.।