पहाड़ी कहानी/परी कने सूरज/मोनिका सारथी

काल्पनिक पहाड़ी कहाणी

परी कने सूरज

परी लोग च इक्की परीया दा जन्म हो या ।सारे बड़े खुश थे ।परीया जो बड़ा प्यार मिल्ला उसा दे माँ बब्बा तें उसा दे भाईयां भैहणा ते।मिलणा भी था सारेयां ते छोटी जे थी।नां रखोया परीया दा थमलीना ।परी बड़्ड़ी होणा लग्गी। दिखदेयां दिखदेयां परी जुआन होई गई ।सेहलियां नें घुमणा फिरणा लग्गी । सैह लाडली परी सूरजे दिखदी रैंहदी थी।सारियां परीयां जाल्हू परी लोग ते बाहर आसमाणे च घुमणा निकळदियां थीयां बड़े ठहाके करी गप्पा मारदियां थीयां पर सैह लाडली परी सूरजे जो बयाखदी रैंहदी थी।इक्क दिन परीया ते टिकी नि हो या सैह सूरजे दियां किरणा मंझ उड़ना लग्गी करी सूरजे नजदीक जाणा लग्गी।ओ थमलीना तू कतां चल्लीयो गां जांगी तां जळी जाणा ।थमलीना दियां सेहलियां गलाणा लग्गीयां परी मुड़ी आई।सेहलियां गलाणा लग्गियां तू रोज सूरजे जो दिखती रैंहदी पर अज्ज तां तैं हद करी ती उसदियां किरणा पर चलना लग्गी पैई? तैं अपणी सुध बुध कैंह खोई ती।थमलीना बड़ीया शान्तियां दा जुआब दित्ता मिंजो सूरजे ने प्यार ऐ होई गया मिंजो इस ते इलावा किछ नि सुझदा।थमलीना दी एह गल्ल इक्की बदळे दे कन्ना च पैई गई ।बदळे झटपट सूरजे ने दस्सी दिता ,दसणा भी था सूरजे दा गहरा दोस्त भी तां था सैह अगले दिन फिरी इन्हां ही हो या थमलीना किरणा मंझ उड़ना लग्गी सूरजे दी नजर भी पैई जिसा पर सूरजे जो सैह बड़ी कोमल करी खरी लग्गी ,पर किरणा दा सेक परीया ने झोणा लग्गा।सूरजे जिसा जो जरकाया कतां चल्लीयो तैं फकोणा ऐ?परी बोली रोज मैं तुसां जो दिखदी तुसां काळीया राता हटाई लखां करोड़ा लोगां जो रोशनी दिंदे मैं तुसां दिया इसा अदा दी बड़ी कायल ऐ अज्ज मेरेयां कन्ना च तुसां दी उआज भी पैई मैं धन्य होई गई ।बस अजे परीया इन्ना ई गलाया कि सूरज बदळे अंदर ढकोई गया परी निराश होई मुड़ी आई।परीया दिया मांऊ देया कन्ना तिकर गल्ल पूज्जी गैई।परीया जो बड़ा समझाया पर पर परी नि समझी सूरजे परिया जो गलाया मैं तिज्जो किछ नि देई सकदा जलन ते इलावा तू अज्जे बाद दे देहा मत करदी किरणा मंझ मत उड़दी ,इन्ना गलाई सूरज फिरी बदळे च लुकी गया।परी फिरी मुड़ी आई।रोज इह्यां ई होणा लग्गा।जिह्यां परीया सूरजे नेड़े जाणा लगणा सूरजे बदळे च लुक्की बैणा।लोग ठण्डी ने मरणा लग्गे ।इक्क दिन तिना परीया बदळे जो गलाया तुसां सूरजे जो गला मिंजो ते बचणे खातर मत लुका मैं नि ओंगी हण तुसां पूरे बाहर निकळी औआ मैं दूरे ते दिख्खी लैंगी करी असां इस परी लोके छड़ी चली पैयो।बदळे जाई ने गलाई ता सूरजे जो वशुआस होई गया ।उन्नीबदले जो गलाया ठीक ऐ तू अपणे घरे जो जा अज्ज मैं रोज तिजो रोकी लैंदा था।बदळ चली गया।अगले दिन सूरज बड़ा चमकया इसा गल्ला ते अंजाण कि परीया क्या करना।पर परी रोज उडदी थी किरणा मंझ अपण अज्ज दबेया पैरां किरणा पर चलणा लग्गी सूरज भाल जाणे ताईं किरणा दा सेक बदणा लग्गा परीया दे पंख जलणा लग्गे पर परी फेरी भी चल दी रेही जाल्हू सूरजे भाल पुज्जी पूरी झळसोई गई ।सूरज बुरे हाले पिघळणा लग्गा रोणा लग्गा पर किरणा दियां रोशनिया नि थमी सकेया।झळसोईयो परी अपणी मांऊ दिया गोदा च पैई गई ।मां रोणा विलखणा लग्गी करी गलाणा लग्गी मैं तिज्जो समझाया था कि सूरजे तिजो सिर्फ फूकणा ऐ होर किछ नि करना ऐ सैह रहम दिल है ई नि उस जो तेरे पर तरस नि आया प्यार सुहा जाणदा सैह तिजो फूकी के रखी ता।मरदी परी गलाणा लग्गी मां इह्यां मत बोल सैह प्यार जो बड़ी खरी तरह जाणदा तुहां जो क्या लगदा भई सैह मिंजो ते तां लुकदा था कि बचणे खातर नहीं ।सैह तां लुकदा था भई मिंजो किरणा दा सेक न झोये ।तिन्नी तां अपणा विधान बदली ता था मां रोज बदळे जो रोकी उस च लुकी बैहंदा था कि मिंजो सके न झोयी जाए।सैह प्यार नि था तां क्या था? पर सारे लोग तिसजो गाळी कडदे थे फूकणा सूरज निकळा दा नि पृथ्वी वासी बुरा बुरा बोलदे थे जेड़ा मिंजो ते सैहन नि होंदा था तिस करी तिस करी मैं बदळे भाल झूठा स्नेहा भेजया।करी मिंजो सूरजे नि फूकेया सूरजे दियां किरणा फूकया।करी किरणा तां फूकणा ई था मिंजो कैंह भई किरण सूरजे दी करी सूरज किरणा दा कोई घरे वाळी अपणी सौकण नि चांहदी।पर मैं भी प्यार सच्चा कित्तेया था मैं इक्क बरी मिलणा था सूरजे ने मिली लेई मेरी जून तां खत्म होई चल्ली पर सूरजे जो जळदेयां किन्नयां सदियांहोई गईयां इब्बे भी जळा दा बचारा पता नि काल्हू तिकर दूज्जेया खातर अपणे आपे जळादा रैंहगा।हे मेरे परमात्मा अगले जन्म मिंजो भी सैह रोशनी बणाया जेड़ी अप्पू जळी दूजेया जो राह दस्सी सके मैं भी सूरजे आळी जलन मसूस करना चांहदी इन्ना बोली परी मरी गेई।

मोनिका शर्मा सारथी

भारत माँ की बेटी हूँ/आशीष बहल


दिन प्रतिदिन बढ़ती बलात्कार की घटना से दुःखी होकर एक बेटी भगवान से क्या शिकायत करती है पढ़िए इस कविता में “भारत माँ की बेटी हूँ”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *