पहाड़ी कविता/ नंद किशोर परिमल

शीर्षक (एह जग्ग बड़ा अनोखा है)
एह जग्ग बड़ा अनोखा है, एत्थू थाईं थाईं धोक्खा है।
सच्चा झूठा एत्थू रैहंदा, कोई हस्सदा है तां कोई रोंदा है।
अमर इस जग्ग है नीं माह्णु, माया जाल़े च जाई फसोंदा है।
छुटकारा जित्तणा पाणा चाहे, माह्णु जाई उत्तना पल़चोंदा है।
इस जग्गे च रिश्ते बणदे हन, एत्थू ही सब टुट्टदे हन।
फी वी मन्न नीं मन्नदा ऐ, लुट्टी लुट्टी जाई लट्टोंदा है।
जनता एत्थू रोआ दी, न्नैं नेता खिड़ खिड़ हस्सा दे।
बाड़ ही खेतिआ खा करदा, सच्चे एत्थू चस्सोआ दे।
सच्चे ओ झूठ गल्लोआ दा, झूठे ओ सच्च बल्लोआ दा।
जिस्सा पत्तल़ी जेह्ड़ा खा करदा, छींडा तिस्सा च पा करदा।
धर्मे भाषा री आड़ा च, ईमान ऐ एत्थू लटोआ दा।
खांदे पींदे इस देसे रा, गाणें गांदे पाकिस्तान विदेसे दा।
बैईमान न्नैं खिड़ खिड़ हस्सा दे, भलमाणस ढांअं पाई न्नैं रोआ दा।
थाईं थाईं जग्गे च धोखा है, एह खेल बड़ा अनोखा है।
इक भुक्खा रातीं सौआ दा, दूआ खाई खाई तणोआ दा।
इस जग्गे रा दस्तूर अनोखा ऐ, उप्पर लेखा सारा लक्खोआ दा।
एह तन वी इक खोखा ऐ, पर माह्णुएं ओ बड़ा भरोसा ऐ।
एई तां इक बड्डा भारी धोखा ऐ, एह जग्ग बड़ा अनोखा ऐ।
जे किछ होआ दा होणा दे, तूं कज्जो सोची सोची रोआ दा।
क्या करिए छुटकारा पाणे ताईं, समझा च कुछ वी नीं औआ दा।
दुर्लभ देह एह इक्क वरी मिल्लिओ, फिरी नीं औणां कोई मौका ऐ।
परिमल संभल़िआ अजे वी भाऊआ, नीं तां हर थाईं बाकी धोखा ई धोखा ऐ।।
नंदकिशोर परिमल
सत्कीर्ति निकेतन, गांव व डा. गुलेर
तह. देहरा, जिला. कांगड़ा (हि_प्र)
पिन. 176033 संपर्क. 9418187358

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *