162/07:07:2017
कवता छैल़ ल्खोंगी काह्लू,
वाह्वाह खरी ग्लोंगी काह्लू।

न्हेरें पत्थर ढोई ढोई,
सरपट दौड़ द्ड़ोंगी काह्लू।

अक्खर मच्छर निकड़ू बड्डी,
धइ सट्राल़ द्योंगी काह्लू।

बेसक रोज़ नवीन ल्खोंदा,
नौंई गल्ल ग्लोंगी काह्लू।

मेरी मत्त म्लीन नखस्मी,
रुह थोड़ी बदलोंगी काह्लू।

चबड़ चतेरी चित्तरकारी,
पर तस्वीर प्ड़ोंगी काह्लू।

राम स्हेल्ला सबनां थाँईं,
ओत्थू नज़र प्जोंगी काह्लू।

मात जुआला जीव्भा खोल्लै,
मेरी जीव्भ ख्लोंगी काह्लू।

सरपट दौड़ दुड़ाई फण्डै,
सुचड़ी जोत ज्गोंगी काह्लू।

विसय वकारां घेरी खाह्दा,
कुक्कड़-बाँग स्णोंगी काह्लू।

मालक ने ताँ घट्ट न दित्ता,
पर दित्ती पछणोंगी काह्लू।

मीयाँ बाग सँभाल़ी लेयाँ,
दितियो खल़ ए खोंगी काह्लू।

कवता सवता ब्हान्ने मितरा,
तेरी गल्ल ग्लोंगी काह्लू।

दीयें तेल न जोत “नवीना”,
धुँधल़ी बत्त द्खोंगी काह्लू।

नवीन शर्मा “नवीन”
गुलेर -काँगड़ा (हि०प्र०)
९७८०९५८७४३