पहाड़ा साईं जीणा कुथु

ठंडी ठंडी हवा कुथु, रूखा च ग्लान्दे पखेरु कुथु, इसा दुनिया च पहाड़ा साईं जीणा कुथु
छर छर करदे चरने ते सां सां करदियां खड्डा कुथु, वरफा ने लदोयो पाड़ कुथु, हरा भरा ए नजारा कुथु,इसा दुनिया च पहाड़ा साईं जीणा कुथु ।

छैल बांकिया छोरियां ते , हट्टे कट्टे मुंडू कुथु, पैग लाई ने लपेटे मारदे माणु ते, चिलमा दा तुं कड़दे स्याणे ते दिन भर गुलेला खेलदे न्याणे कुथु,
लगया बया ता नचदीया हसदियां जणासा कुथु, मरया कोई ता रडादिया पिटदिया स्याणीयां कुथु, टाले ते बैठी ने ताश खेलदे चुट कुथु, चाचे दिया घुसियां सुनादियां मेफिला कुथु, इसा दुनिया च पहाड़ा साईं जीणा कुथु।

मेले च घुमदिया मणिया कुथु, मंदरा च नचदे चेले कुथु, भोले दे नोखे भक्त कुथु, राति राति भर लगदियां पकता कुथु,
कुमी लेया तुसा धरती सारी, फिरि लेया तुसा दुनिया प्यारी, मिलना नि हिमाचल प्यारा मिलना नि कुथी ए नजारा, मिलने प्यारे पहाड़ कुथु, इसा दुनिया च पहाड़ा साईं जीणा कुथु।

आशीष बहल चुवाड़ी जिला चम्बा