तोते मते सारे तोते
सिंबलें बैंह्दे तोते दिक्खे
अज भंडारें तोते दिक्खे।

ठुंग्गा लांदे तोते दिक्खे
भोक्के पांदे तोते दिक्खे।

बोलण हल्ला मिली करी
दाणे चुरांदे तोते दिक्खे।

लाल चुंजाँ गल़ैं कंठी
मौज मनांदे तोते दिक्खे।

हरा रंग धरती माँ दा
पछाण करांदे तोते दिक्खे।

ढक्की पल़ेटी नाज रखणा
एह समझांदे तोते दिक्खे।

जै वोलण किरसाना दी
दाणे खांदे तोते दिक्खे।

अन्ने दी सबो कदर करा
अज सुणांदे तोते दिक्खे।

मिली जुल रैहणा सिक्खा
पाठ पढांदे तोते दिक्खे।

खाणा पीणा निराश सौगी
एह गलांदे तोते दिक्खे।

सुरेश भारद्वाज निराश
धौलाधार कलोनी लोअर बड़ोल
पी.ओ. दाड़ी, धर्मशाला हिप्र
176057
मो० 9805385225

Sent from BharatKaKhajana