~ ताँका ~
^^^^^^^^^^^^^^

‘मंडरा रहे
कजरारे बादल
उमड़ आई
घनघोर घटाएँ
बरसेगा सावन..।’

~~〽सावन