जी एस टी/ सुरेश भारद्वाज

जी एस टी (Goods and Service Tax)

पिछले कुछ दशकां ते बपार, बणया था तंत्र
जीएसटीयै इक्को मित्रो, बस बचणे दा मंत्र।

केन्द्र दा बखरा टैक्स, राज सरकारा दा बखरा
उपभोक्ता बणया रैहंदा, म्हेशा बल़ी दा बकरा।

करना पौणे स्हांजो, टैक्स ढाँचे च बदलाव,
तां जे अर्थब्यवस्था, होईजा सहज सुभाब।

इक्की प्रदेसे ते दुए च, जे होए खरीद दारी,
केन्द्र कनै राज्यां दा टैक्स लगदा भारी

जे बिकै कुसी होर प्रदेसें, जुड़ै केन्द्री बिक्री कर,
समाने दी कीमत दिंदयां, नानी जांदीयै मर।

केन्द्रा दी बखरी सूची, राज्यां दी सूची बखरी
टैक्स दिंदयां दिंदयां, माह्णु होई जा कसरी।

बिक्री कर आगत कर, चुंगी कनै मनोरंजन कर
माह्णु होंदा बौंजल़ा, उपरे ते बिलासता कर।

दुनियां दे इकसौ सठ देशां च, जीएसटी लग्गा दा
पता नी स्हाड़ा भारत, कैंह नी था जग्गा दा।

देश चलाणे तांई हन पैसे चैहदे भाई,
टैक्स असां दिंगे, तां सफेद होणी कमाई।

बिना टैक्स दित्यां रैंहदा यै पैसा काल़ा,
वकास चैह्दा टैक्स देया, मत काल़ा धन सम्भाला।

सही तरीके कनै जे टैक्स बसूलै सरकार,
जे होए जरुरी तां नियमां च करै सुधार।

जीएसटी मंझ टैक्से दा, सहज सबरुप होणा,
मते खाते नी होणे, इक्क इ खाता रखोणा।

सारे कारोबारी हुण, छडि देंन मतियाँं कताबां
कम्यूटर रखी लैण, मजे नै करण हिसावां।

सारे प्रदेस देसे दे, जे समझण जीएसटी दा लाभ,
जीएसटी ते बाहर ना, रखण कोई उत्पाद।

सारे देसे मझ जाह्लू, इक्को इ टैक्स होणा,
जित्थु चाहे माहणु, तित्थू इ समान खरदोणा।

काल़ा बाजारी रुकणी, नी कोई होणा बदनाम,
जित्थु मर्जी खरीदा, बस इक्क इ होणा दाम।

अतिरिक्त कर कनै बैट, सरकारा हन मुकाणे,
जीएसटी लागू होणा, सब तिस मझ मिली जाणे।

जित्थु खरीदणा माल, तित्थूइ टैक्स दैणा,
डब्ल डब्ल टैक्सां दा, भार नी हुण रैहणा।

इक देस इक्क टैक्स, बणनी यादगार,
निराश बदणा रात दिन , देसे दा बपार।

सुरेश भारद्वाज निराश
ए-58 न्यू धौलाधार कलोनी
लोअर बड़ोल पी.ओ.दाड़ी
धर्मशाला (कांगड़ा) हिप्र
पिन 176057
मो० 9418823654
9805385225

3 comments

    1. जी एस टी पर बड़ी सुंदर पहाड़ी रचना। बड़ी प्यारी न्नैं सटीक।

    2. भाई आशीष बहल दी लाजवाब कोशिश ही असाँ जो काफी ज्ञानवर्धक जानकारियाँ करवा दी है।
      आभार भाई बहल जी।।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *