टपरू जालु लग्गे ढेह्णां,/कुशल कटोच

टपरू जालु लग्गे ढेह्णां,

टेकियां ने कितणा बचाणां।

चोडा होयें जे टीम्बरूयां ते ,

खन्दोलू छपरे पर पोंदा पाणां।

बरसाती जालू बरखा लगदी,

अम्बर गजदा धरती कमदी ।

दिल मेरे दा हाल क्या हुन्दा,

दिल हाक्खि ते गंगा बगदी ।

पेडूऐ दे दाणें सिजी जान्दे,

चुल्हे भी ताह्लू बुझी जान्दें ।

मोर तां पहलां लगदा पाणां,

घरे छड्डी मैं कुथियो जाणां ।

डा. कुशल कटोच

‘ हमारा घर

लोअर बरोल दाडी

धर्मशाला

9418079700

जानिए खूबसूरत कांगड़ा के बारे में ये जानकारी

बाथू की लड़ी एक पहेली/Ashish Behal

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *