पहाड़ी कविता /ठाकुर विशाल

दिख “विशाल” खर्चा करिये ऊना जिनी तेरी कमाई,
लोकां देयां मैलाँ दिखी अपणी झुंगी दिखया लैंदा ढाई,
अजे दा कम कले जो नी छंडणा,
अज ही देणां निपटाई,
ऊनाँ दा भी कदी भला नी होणा,
जिनाँ दुजे दे घरे अग लाई,
पैणाँ दे घरे पाई कुत्ता
सौरेयाँ दे घरे जवाई,
बाल कटाणे तां सिर जरूर धोणां,
नितां सिरे पर बैठी रैंदां नाई,
ऐ आयरन, कैलिशम, विटामिन हुण ही लगे घटणा,
पैलाँ नयाणे खेलदे थे शलियाँ दी रोटी खाई,
हुण कदेई जिन्दगी दिती ओ रबा,
जमणे ते मरणे तक चली रैंदी दवाई,
झुठ कन्नै जुठ हमेशा,
घरे च पांदे लडाई,
रामे साई पाऊ नी मिलदे अजकल,
सीता साई परजाई,
यू-ट्यूब, फैसबुक, वयटसऐप सारियां जगह ऐ कविता दितियो पाई,
जिथुवी टकरी जाँगी तुहां जो,
गुठा दिनयो दबाई,,,,

ठाकुर विशाल सिंह
7018715504

One comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *