जे चाहे सैह् ठौकर करदा/नंद किशोर परिमल

जे चाहे सैह् ठौकर करदा

माह्णु कोई, कदी वी किछ करी नीं सकदा।
जे करदा सैह् इक ठौकर करदा।
माह्णु एत्थूं आई मैं मैं – तूं तूं करदा।
सैह् चाहे तां घड़िया च् सब कुछ हरदा।
ठौकर न चाहे तां इक बूंद नीं वरदी।
हरिया फसला सुकाई सैह् पूरी छडदा।
जे अक्ख सव्वली तिस री होऐ।
चिट्टा अंबर तां इक पले च् वरदा।
तिसरे रंग ओ भाऊआ बड़े निआरे।
पले च् अर्शे तैं डिगाई फर्शे पर सुटदा।
बड़े बड़े सैह् चाहे तां कई करिश्मे करदा।
तिस भाणे भिकखमंगा वी झटपट लखपति बणदा।
तिस्स बिन इक हवा रा झोंका।
कदी वी पत्ता इक नीं झुल्लदा।
सैह् चाहे तां जड़ पुट्टी न्नैं रुक्खे दी सारी।
अंधड़ ल्याई धरत उल्ट पल़ट सैह् पूरी करदा।
तूं इक शरण तिसरी लेई लै।
जे तूं है चाहें संसार सागरैं तरदा।
परिमल तूं सच्च इक बोल हमेशा।
सच्च बोलणें ताईं तूं कैंह ऐं डरदा।
नंद किशोर परिमल, से. नि. प्रधानाचार्य
गांव व डा, गुलेर, तह. देहरा (कांगड़ा) हि प्र
पिन 176033, संपर्क 9418187358

पढ़िए काव्य महक की ये सुंदर रचनाएँ


ऑनलाइन पत्रिका भारत का खजाना के “काव्य महक” के दूसरे संस्करण में पढ़िये देश के जाने माने साहित्यकारों की मंत्रमुग्ध करने वाली रचनाएँ। जो आपको मिलेंगी सिर्फ और सिर्फ भारत का खजाना में।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *