अम्बां साइं माह्णुं मैं टिरदे दिक्खे)
____________________
अम्बां साइं माह्णुं मैं टिरदे दिक्खे।
जाह्लु कुरै पर सैह् थे लग्गे,
ताह्लुं तैं सैह् डिग्गणा लग्गे ।
किछ तां तेलैं सैह् थे खाऽदे,
बड्डे होए तां नहेरिया न्नैं डिग्गे।
अगली होणी सैह् पत्थरां खांदे,
औंदे जांदे निआणें तिनांजो फंडदे ।
होर थोड़े सैह् जे बड्डे होए तां,
छीछे माणिएं ताइं सैह् लोकां फंडे।
पकणें तैं पैह्लैं किछ सैह् पंछियां खाऽदे,
टपका लगेया तां आपूं हण टिरना लग्गे ।
कोई कोई तां गल़ी सड़ी न्नैं भूइंयां पौंदा,
कोई रंगे लाले पील़ैं दिक्खी लल़चांदे दिक्खे।
सारे इंह्यां टिरि टिरी न्नैं पौंदे,
इंह्यां ई माह्णुं सारे एत्थूं हन मैं मरदे दिक्खे।
किछ रब्बे दे भाणैं मरदे,
किछ बिन मौती मैं मरदे दिक्खे।
बड्डे बड्डे राणें राजे इंह्यां,
अम्बां साइं मैं सैह् टिरदे दिक्खे।
कोई वी इस जगे च अमर नीं होंदा,
पर एह मन फी बी धीरज नीं करदा।
शमशानें जाई मैं सारे माह्णुं,
अमरता रिआं गप्पां मारदे दिक्खे ।
पर इस माह्णुए जो फ़कर बड़ा ऐ,
सोचै सैह्,कि मैं नीं मरना।
पर एत्थूं तां ऐ कुसी नीं बचणा।
ठौकरे हत्थैं डोर ऐ तिसरी,
सैह् जाणैं काह्लु तिसरो लीणां।
इस गल्ला रा नीं पता कुसी जो,
अम्बे साइं तिन्नी काह्लु टिरना।
कितने ई माह्णुं अपणैं साह्मणैं,
इस जगे च हन मैं टिरदे दिक्खे।
परिमल फी बी एह् मन नीं मनदा,
पर माह्णुं अम्बां साइं मैं टिरदे दिक्खे।
पर माह्णुं अम्बां साइं मैं टिरदे दिक्खे।

नंद किशोर परिमल, से. नि. प्रधानाचार्य
गांव व डा. गुलेर, तह. देहरा (कांगड़ा) हि. प्र.
पिन. 176033, संपर्क. 9418187358