नीं लगदा तां नीं लगदा/सुरेश भारद्वाज निराश

$ नीं लगदा तां नीं लगदा $

भाग-2

क्या करी लैणा भाऊ!
नीं लगदा तां नीं लगदा
दिल मेरा ऐ तिज्जो क्या
नीं लगदा तां नीं लगदा।

हसदा कदी रोंदा कदी
दुखी बड़ा बुझोंदा कदी
कलमा दै स्हारें जिया दा
अणचाह्या सै लखोंदा कदी
दिल मेरा ऐ तिज्जो क्या
नीं लगदा तां नी लगदा।

बेशक खरी कमाई करदा
होरना तांई हरदम मरदा
दुखां तिसयो पाया घेरा
रब्बे ते बी खूव डरदा
दिल मेरा ऐ तिज्जो क्या
नीं लगदा तां नी लगदा

टब्बर टेरा गल्ल नीं सुणदा
झूठे सच्चे सुपणे बुणदा
अंजुओं सौगी प्रीत बड़ी ऐ
खूह ख्याली डूंगे खुणदा
दिल मेरा ऐ तिज्जो क्या
नीं लगदा तां नीं लगदा।

खेतरें खेतरें हंडदा रैंहदा
कदी ओतड़ी कदी बैंह्दा
मिन्ट भर सब्र नीं करदा
थकी जांदा तांई टैहंदा
दिल मेरा ऐ तिज्जो क्या
नीं लगदा तां नीं लगदा।

टल्लु पाई लाईयाँ सुथणां
केई बरी फि: पेईयाँ गुथणा
चली गेई थी इह्यां इ अम्मा
लगियो हौल़ैं हौल़ैं टुटणा
दिल मेरा ऐ तिज्जो क्या
नीं लगदा तां नीं लगदा।

सुरेश भारद्वाज निराश
धर्मशाला हिप्र

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *